फर्जी संसद पास बनाने में नीतीश सरकार में BJP मंत्री के निजी सचिव समेत दो अरेस्ट

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 23rd Oct 2021, 7:59 PM IST
  • दिल्ली पुलिस ने संसद भवन के फर्जी पास बनाने के मामले में बिहार सरकार के मंत्री जनक राम के पर्सनल सेक्रेटरी बब्लू आर्या और एक कैफे संचालक को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस दोनों को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई है और गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश की जा रही है.
संसद के फर्जी पास बनाने के आरोप में मंत्री जनक राम का निजी सचिव समेत 2 लोग गिरफ्तार (फोटो सभार लाइव हिंदुस्तान)

पटना. दिल्ली पुलिस ने शनिवार को बिहार में बड़ी कार्रवाई करते हुए नीतीश सरकार के खान व भूतत्व मंत्री जनक राम के पर्सनल सेक्रेटरी (आप्त सचिव) बब्लू आर्या और उनके एक साथी को गिरफ्तार कर लिया है. बब्लू आर्या पर संसद भवन के फर्जी पास बनवाने का आरोप लगाते हुए ये कार्रवाई की गई है. पुलिस दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर ले गई है. अब पुलिस दोनों से पूछताछ कर रही है.

बता दें कि पुलिस ने पहले बब्लू आर्या को गिरफ्तार किया. उससे पूछताछ में उसने दिल्ली पुलिस को गोपालगंज के साइबर कैफे संचालक महेश के शामिल होने की बात बताई. जिसके बाद पुलिस ने बब्लू की निशानदेही में महेश को भी गिरफ्तार कर लिया है.

उत्तराखंड बारिश में मारे गए बिहारी प्रवासियों को मुआवजे का ऐलान, इतना रुपया देगी नीतीश सरकार

एक शख्स फर्जी पास लेकर पहुंच गया संसद भवन

जानकारी अनुसार, एक हफ्ते पहले एक शख्स संसद में जा रहा था. इस दौरान सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने जब उसके पास संसद में प्रवेश के लिए जारी किए गए पांस की जांच की तो फर्जी निकला. जिसके बाद पुलिस ने उसे मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी आरोपी शख्स ने गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में मंत्री जनक राम के पर्सनल सेक्रेटरी के इस मामले में शामिल होने की जानकारी हुई.

उपचुनाव के बीच रविवार को पटना आ सकते हैं RJD प्रमुख लालू यादव ! चर्चाओं का बाजार गर्म

गोपालगंज के पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने बताया कि संसद भवन में प्रवेश के लिए बनाए गए फर्जी पास के मामले में दिल्ली पुलिस ने जांच के दौरान बब्लू आर्या को गिरफ्तार किया था. अब इसकी निशानदेही पर महेश कुमार की भी गिरफ्तारी की गई. दिल्ली पुलिस दोनों आरोपियों को लेकर चली गई है. अब इस मामले में पूछताछ के बाद अन्य आरोपियों की भी तलाश की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें