इस डिवाइस से रोकेंगे सड़क हादसे, पलक झपकते ही बजेगा अलार्म, जानें कैसे करेगी काम

Ruchi Sharma, Last updated: Mon, 24th Jan 2022, 9:09 AM IST
  • भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज (बीईसी) के छात्रों ने ड्राइवर सेफ्टी डिवाइस तैयार किया है. जो ऐसे हादसों को रोक सकेगी. यह डिवाइस चश्मे की तरह है. ड्राइवर इसे आंखों में लगाकर जब ड्राइविंग करेंगे तो डिवाइस उनकी आंखों पर नजर रखेगा. ड्राइवर के सोते ही डिवाइस अलार्म की तरह बजने लगेगा. तीन बार अलार्म बजने के बाद गाड़ी खुद रूक जाएगी.
डिवाइस के साथ बीईसी छात्र

पटना. अक्सर आपने सुना होगा ड्राइविंग के दौरान ड्राइवर को नींद आने से सड़क हादसे हो जाते हैं. इसे रोकने के लिए भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज (बीईसी) के छात्रों ने ड्राइवर सेफ्टी डिवाइस तैयार किया है. जो ऐसे हादसों को रोक सकेगी. यह डिवाइस चश्मे की तरह है. ड्राइवर इसे आंखों में लगाकर जब ड्राइविंग करेंगे तो डिवाइस उनकी आंखों पर नजर रखेगा. ड्राइवर के सोते ही डिवाइस अलार्म की तरह बजने लगेगा. तीन बार अलार्म बजने के बाद गाड़ी खुद रूक जाएगी. इस सिस्टम को जीपीएस से जोड़ने की तैयारी भी चल रही है ताकि गाड़ी मालिक को पता चल सके कि उनका ड्राइवर किस तरह गाड़ी चला रहा है.

इंजीनियरिंग फाइनल इयर के छात्र निशांत कुमार और नदीम अहमद खान ने यह डिवाइस तैयार किया है. निशांत ने बताया कि अधिकतर दुर्घटनाओं में ड्राइवर की आंख लग जाने की बात सामने आती है. इसके बाद नशे की हालत में गाड़ी चलाने से भी कई बार हादसे होते हैं. इन दोनों पर एक साथ काम किया गया है. नींद लेने की आदतों को रोकने के लिए डिवाइस बन गया है. फरवरी माह तक शराब पीकर गड़ी चलाने वालों के लिए भी डिवाइस तैयार हो जाएगा.

 

यूपीटीईटी: सॉल्वर गिरोह का भंडाफोड़, सेंध लगा रहे तीन लेखपाल व सरगना समेत 28 लोग गिरफ्तार

 

रोबोट क्षेत्र में भी हो रहा है काम

कॉलेज की प्राचार्य डॉ. पुष्पलता ने कहा कि बीईसी के छात्र बेहतर काम कर रहे हैं. यह डिवाइस समाज के लिए वरदान साबित होगा. उन्होंने कहा कि रोबोट के क्षेत्र में भी यहां के छात्र काम कर रहे हैं.

शराब के नशे में नहीं हो पाएगी गाड़ी स्टार्ट

वहीं अगर कोई शराब पी कर गाड़ी चला रहा है तो वह भी अब गाड़ी नहीं चला पाएगा. इसके लिए एक डिवाइस तैयार किया जा रहा है, जो सेंसर और प्रोग्रामिंग से लैस होगा. सेंसर की खासियत होगी कि वे अल्कोहल की मौजूदगी पर अलर्ट हो जाएगा. पहले यह तीन बार बजेगा. छात्र नदीम अहमद खान ने बताया कि ड्राइविंग सीट से शराब पीकर व्यक्ति अगर चाभी लगाना चाहेंगे तो गाड़ी स्टार्ट नहीं होगी.

यही नहीं, कोई दूसरा स्टार्ट करके अगर फिर शराबी को गाड़ी चलाने को दे दे तो गाड़ी खुद व खुद बंद हो जाएगी। किसी भी परिस्थिति में ड्राइविंग सीट पर बैठा व्यक्ति नशे में नहीं हो सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें