राज्यपाल का आदेश, बिहार की यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में 1 मई से गर्मी की छुट्टी

Smart News Team, Last updated: 01/05/2021 10:32 PM IST
बिहार में बढ़ते संक्रमण के वजह से राज्य के राज्यपाल फागू चौहान ने 1 मई से 30 मई तक बिहार के सभी महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों को गर्मी की छुट्टी कर दी है. और साथ ही मई महीने में होने वाली किसी भी परीक्षा को अगले महीने की तारीख 1 जून से 15 जून के मध्य पूरा करने का आदेश दिया है.
बिहार के राज्यपाल फागू चौहान. (फाइल फोटो)

पटना : बिहार में कोरोना के बढ़ते संक्रमण की दर के कारण बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने निर्णय लिया है कि राज्य के सभी विश्वविद्यालय और महाविद्यालय में मई महीने से ही गर्मी की छुट्टी कर दी गई है. राज्यपाल के इस निर्णय को संयुक्त सचिव राजकुमार सिन्हा ने बिहार के सभी विश्वविद्यालय और महाविद्यालय के कुलपतियों को जारी कर दिया है. बिहार के विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों में विद्यार्थियों को जून माह में गर्मी की छुट्टी दी जाती थी. जो इस बार 1 महीने पहले दी गई है.

इसके साथ राज्यपाल फागू चौहान ने आदेश दिया है कि राज्य में मई महीने में होने वाली किसी भी परीक्षा को 1 जून से 15 जून तक पूरा करने का निर्देश दिया गया. बिहार राज्य में पहले ही कोरोना संक्रमण के बढ़ने की वजह से सभी शिक्षा के संस्थानों को 9 अप्रैल से 15 मई तक बंद करने का निर्देश दिया जा चुका है. फिलहाल पूरे पूरे बिहार में संक्रमण की दर बहुत तेज बढ़ रही है. जिस कारण बिहार राज्य के राज्यपाल ने फागू चौहान ने इस बार 1 मई से 31 मई तक गर्मी की छुट्टी कर दी है. राज्यपाल का यह निर्णय छात्रों के हित में बता गया है.

जिंदगी के 18 साल जेल में गुजार चुके थे बाहुबली नेता शाहबुद्दीन, पढ़िए पूरी कहानी

बिहार में शनिवार के जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में 13789 में संक्रमित मरीज पाए गए हैं. और करीब 10905 लोग कोविड 19 से ठीक होकर अपने घर वापस जा चुके हैं. बिहार में कोरोना से कुल संक्रमित मरीजों की संख्या कुल 118202 पहुंच चुकी है. फिलहाल बिहार के लिए अच्छी खबर यह है कि बिहार में संक्रमित मरीजों के ठीक होने की रिकवरी रेट 77.10 फीसदी है.

कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर पटना हाईकोर्ट ने सरकार को दिए सख्त निर्देश

राजद के पूर्व सांसद और लालू यादव के करीबी मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना से निधन

पटना महावीर मंदिर के प्रबंधक नागेन्द्र ओझा का निधन, मंदिर न्यास ने जताया शोक

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें