सावधान! सोशल मीडिया पर मंत्रियों के बारे में लिखा कुछ गलत तो ऐसे पड़ेगा भुगतना

Smart News Team, Last updated: Fri, 22nd Jan 2021, 10:45 AM IST
  • बिहार में सरकार के खिलाफ या उसके मंत्रियों, सांसदों, विधायकों, अफसरों या कर्मियों के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने वाली पर पुलिस अब कार्यवाई करेगी. जिसके लिए ईओयू ने सरकार के विभागों के प्रधान सचिव और सचिव को पत्र लिखकर शिकायत करने के लिए कहा है.
सोशल मीडिया पर मंत्रियों के बारे में लिखा कुछ गलत तो ऐसे पड़ेगा भुगतना

पटना. बिहार में यदि आप अब किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर राज्य के मंत्री, सांसद, विधायक, अधिकारी या फिर सरकारी कर्मचारी के साथ किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ किसी तरह ही टिप्पणी करते है तो आप पर अब कानूनी कार्यवाई हो सकता है. यदि किसी भी व्यक्ति की प्रतिष्ठा या छवि को बदनाम करने के जुर्म के आरोप में जेल भेजा जा सकता है. जी हा अब बिहार में ऐसा करने पर आईटी एक्ट की धराओं में मामले को जब्त किया जाएगा और उसकी जांच भी की जाएगी.

इतना ही नहीं यदि को बिहार सरकार की नीतियों के प्रति किसी तरह का भ्रामक अफवाह फैलाता हुआ या उसका दुष्प्रचार करता हुआ पाए जाने पर कार्यवाई किया जाएगा. इसके लिए आर्थिक अपराध इकाई ने राज्य के सभी विभागों के प्रधान सचिव और सचिव को पत्र लिखकर कहा है कि यदि कोई पोस्ट आपत्तिजनक हो तो उसकी शिकायत किया जाय. साथ ही इसके बारे में इओयू ने गुरुवार को एक पत्र जारी करके जानकारी दी है.

27 साल बाद बढ़ेगा पटना में होल्डिंग टैक्स, निगम में पारित अब सरकार लेगी फैसला

उस पत्र में कहा गया है कि ऐसे किसी पोस्ट की सूचना दी जाय जिसमे व्यक्ति या संस्थान के साथ सरकार की छवि धूमिल हो रही हो या आपत्तिजनक, अभद्र टिप्पणी की गई हो. उन सभी पर कार्यवाई की जाय. साथ ही इस पत्र में ये भी लिखा है कि सरकारी अधिकारी और कर्मचारी ऐसे किसी भी पोस्ट की जानकारी तुरन्त दे जिससे इनपर कार्यवाई की जा सके.

दसवीं-12वीं एग्जाम डेट बढ़वाना चाहते हैं BSEB बिहार बोर्ड के छात्र, ये है कारण

वहीं इओयू के एडीजी एनएच खान का कहना है कि सरकार के मंत्री से लेकर अधिकारियों और कर्मचारियों या अन्य व्यक्ति की प्रतिष्ठा का हनन या छवि धूमिल करने वाले सोशल मीडिया पोस्ट पर कार्यवाई किया जाएगा. साथ ही यदि आपत्तिजनक, भ्रामक, या अभद्र टीप्पणी की शिकायत आती है तो उसे आईटी एक्ट के तहत मामले को दर्ज कर जांच किया जाएगा.

सरकार का फैसला, ठेकों के लिए ठेकेदार व उनके कर्मी जमा करेंगे चरित्र प्रमाण पत्र

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें