जमालपुर रेल कारखाने में 34 करोड़ के घोटाले के मामले में ईडी ने सीनियर रेलवे इंजीनियर को किया गिरफ्तार

Somya Sri, Last updated: Wed, 15th Sep 2021, 4:13 PM IST
  • प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के पटना जोनल ऑफिस ने जमालपुर रेलवे कार्यशाला के सीनियर रेलवे इंजीनियर चंदेश्वर प्रसाद यादव को गिरफ्तार कर लिया है. चंद्रशेखर प्रसाद यादव को ईडी ने जमालपुर रेलवे कारखाना में हुए 34 करोड़ रुपये के वैगन घोटाला मामले में गिरफ्तार किया है.
जमालपुर रेल कारखाने में 34 करोड़ के घोटाले के मामले में ईडी ने सीनियर रेलवे इंजीनियर को किया गिरफ्तार (प्रतिकात्मक फोटो)

पटना: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के पटना जोनल ऑफिस ने मंगलवार को जमालपुर रेलवे कार्यशाला के सीनियर रेलवे इंजीनियर चंदेश्वर प्रसाद यादव को गिरफ्तार कर लिया है. चंद्रशेखर प्रसाद यादव को ईडी ने जमालपुर रेलवे कारखाना में हुए 34 करोड़ रुपये के वैगन(मालगाड़ी) घोटाला मामले में गिरफ्तार किया है. दरअसल, साल 2013 से 2017 के बीच रेल कारखाना से स्क्रैप डिस्पोजल के नाम पर धोबी घाट स्क्रैप साइडिंग में लगभग 100 वैगन और उसके पहिये और अन्य फिटिंग को गायब कर दिया गया था. जिसका मूल्य लगभग 34 करोड़ रुपये है.

बता दें कि चंद्रशेखर प्रसाद यादव को धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) 2002 के तहत गिरफ्तार किया गया है और विशेष पीएमएलए अदालत ने उन्हें ईडी की हिरासत में पांच दिनों के लिए रिमांड पर लिया है. इससे पहले ईडी ने मुंगेर जिले के जमालपुर थाना क्षेत्र के बारी दरियापुर निवासी श्री महारानी स्टील के मालिक देवेश कुमार को गिरफ्तार किया था. उनकी पत्नी मीतू रविकर मुंगेर जिला बोर्ड की सदस्य हैं.

हैवानियत: भाई ने नाबालिग बहन को बनाया हवस का शिकार, पहले माफी मांगी, फिर अश्लील फोटो...

गौरतलब है कि रेल कारखाना में वर्ष 2013 से लेकर 2017 तक करीब 34 करोड़ रुपये के वैगन घोटाले का मामला उजागर हुआ था. इसमें वैगन का चक्का, महत्वपूर्ण पार्ट्स और स्क्रैप को बेच दिया गया था. मामले की गंभीरता को देखते हुए घोटाले की जांच की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंपी गयी थी और तब सीबीआई के तत्कालीन एसपी नगेंद्र प्रसाद ने 9 फरवरी 2018 को वैगन घोटाले को लेकर प्राथमिकी दर्ज करवाया था. प्राथमिकी दर्ज होने के बाद से सीबीआई लगातार जांच कर रही है और इस मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रवर्तन निदेशालय की ओर से भी कार्यवाही की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें