बिहार चुनावः EC से 12 दलों को नया चुनाव चिन्ह, मांझी की हम को कड़ाही सिंबल

Smart News Team, Last updated: 16/09/2020 12:58 AM IST
चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए 12 राजनैतिक पार्टियों को नए चुनाव चिन्ह् आवंटित किए. पप्पू यादव को कैंची तो जीतनराम मांझी की पार्टी को कड़ाही चुनाव चिन्ह मिला.
चुनाव आयोग ने 12 राजनैतिक पार्टियों को नए चुनाव चिन्ह आवंटित किए हैं.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव की सरगर्मी तेज होती जा रही हैं. इसी बीच चुनाव आयोग ने 12 राजनैतिक पार्टियों को नए चुनाव चिन्ह आवंटित किए. अब ये पार्टियां अपने पुराने चुनाव चिन्हों पर वोट नहीं मांग सकेंगी. चुनाव आयोग ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा को अब कड़ाही चुनाव चिन्ह दिया है और पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी को कैंची चिन्ह दिया है.

इन दोनों पार्टियों के अलावा चुनाव आयोग ने जनतांत्रिक लोकहित पार्टी को टेलीविजन, जनता दल राष्ट्रीय को डोली, आम जनता पार्टी राष्ट्रीय को चप्पल, लोकतांत्रिक जन स्वराज पार्टी को कैरम, भारतीय लोक नायक पार्टी को रोड रोलर, राष्ट्रीय जन जन पार्टी को बैट, राष्ट्रीय जन विकास पार्टी को बेबी वॉकर, हिंदुस्तान संपूर्ण आजाद पार्टी को बैलून, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया राष्ट्रीय को दूरबीन और मजदूर एकता पार्टी को हैंडकार्ट चुनाव चिन्ह आवंटित किया है.

बिहार को मोदी सरकार का चुनावी तोहफा, पटना के बाद अब दरभंगा में AIIMS अस्पताल

भारत निर्वाचन आयोग की उच्चस्तर टीम ने मंगलवार को भागलपुर और बोधगया में 19 जिलों के निर्वाचन पदाधिकारी और जिला पुलिस अक्षीक्षक के साथ मीटिंग की. इसके बाद पटना में भी विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की. भारत निर्वाचन आयोग की इस टीम ने बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर निर्देश दिया कि चुनावी बैठकों में सौ से अधिक व्यक्ति नहीं शामिल होंगे. उन्होंने ये भी कहा कि बिना मॉस्क के कोई भी प्रक्रिया नहीं की जाए. कोरोना को लेकर केंद्र व राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन किया जाए.

बिहार पर मोदी सरकार मेहरबान, 21 सितंबर से 20 जोड़ी और ट्रेन चलेंगी, 12 बिहार से

आपको बता दें कि इन पार्टियों के पहले दूसरे चुनाव चिन्ह थे. जीतराम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा का पहले चुनाव चिन्ह् टेलीफोन था और पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी का चुनाव चिन्ह् हॉकी था. बिहार की 243 विधानसभा सीटों पर अक्टूबर-नवंबर में चुनाव होने हैं. मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त हो जाएगा. चुनाव आयोग ने अभी तक चुनाव की तारीखों की घोषणा नहीं की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें