बिहार चुनाव के दौरान फेक न्यूज पर रहेगी EC की नजर, हर झूठी खबर का होगा फैक्ट चेक

Smart News Team, Last updated: 15/09/2020 07:02 PM IST
  • चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव को देखते हुए सोशल मीडिया पर फैल रही गलत और भ्रामक खबरों को रोकने के लिए फैक्ट चेकिंग करने की रणनीति बनाई है. सभी जिलों मे इस आदेश को जारी कर दिया गया है. गलत पोस्ट डालने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.
प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में सोशल मीडिया पर गलत और भ्रामक खबरें न फैलें इसके लिए चुनाव आयोग ने पूरी तैयारी कर ली है. चुनाव आयोग मतदाताओं को सोशल मीडिया पर फैल रहे झूठ और अफवाहों के बारे में खुद जानकारी देगा. इसके लिए चुनाव आयोग फैक्ट चैकिंग करेगी. जिसे जिला प्रशासन की वेबसाइट पर डाल दिया जाएगा.

बिहार चुनाव में सोशल मीडिया पर किसी भी नेता और पार्टी के बारे में गलत जानकारी फैलाना आसान नहीं होगा. चुनाव आयोग ने भ्रामक खबरों के जवाब देने के लिए फैक्ट चेकिंग करने का फैसला लिया है. चुनाव आयोग सोशल मीडिया पर नजर रखेगा. अगर कोई गलत और भ्रामक सूचना फैलती है तो उसकी फैक्ट चेकिंग करके जिला प्रशासन की वेबसाइट पर डाल दिया जाएगा. मतदाताओं को किसी खबर के बारे में सच्चाई जानना हो तो वो जिला प्रशासन की वेबसाइट पर जाकर जान सकता है.

बिहार को मोदी सरकार का चुनावी तोहफा, पटना के बाद अब दरभंगा में AIIMS अस्पताल

अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी गोपाल मीणा ने सभी जिलों में चुनाव आयोग के इस आदेश को जारी कर दिया है. जिला निवार्चन अधिकारियों से कहा गया है कि वे आयोग की ओर से दिए गए फैक्ट चेक के लिंक को जिले की वेबसाइट पर अपलोड कर दें. इस लिंक से ही सोशल मीडिया पर फैल रही भ्रामक खबरों के बारे में बताया जाएगा. जिला प्रशासन किसी भी खबर की सच्चाई को जानने के बाद अपने आधिकारिक फेसबुक पेज, ट्विटर, यूट्यूब व इंस्स्टाग्राम से शेयर करेगा. जिससे पल भर में लोगों को खबर की सच्चाई के बारे में पता चल जाएगा. चुनाव आयोग सिर्फ फैक्ट चेकिंग ही नहीं करेगा. गलत पोस्ट डालने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी करेगा.

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें