बिहार को मिलेगी जाम से राहत, 56 सड़कें होंगी चौड़ी, 120 से हटेगा अतिक्रमण

Smart News Team, Last updated: Sun, 17th Jan 2021, 10:33 AM IST
  • बिहार राज्य के किसी भी कोने से 5 घण्टे में राजधानी पहुचनें की योजना पर अमल करने के लिए पथ निर्माण विभाग ने कई योजनाएं बनाई है.इसी कड़ी में राज्य में जरूरत के अनुसार बाईपास, फ्लाईओवर, एलिवेटेड सड़क बनाने का निर्णय लिया गया है.सरकार के सात निश्चय-दो सुलभ संपर्कता योजना पर काम हो रहा है.
56 सड़कों को किया जाएगा चौड़ा, 120 से हटेगा अतिक्रमण

पटना. आय दिन राज्य की मुख्य सड़कों पर लगने वाले जाम से लोगों को राहत दिलाने के लिए सड़कों को और चौड़ा करने के साथ-साथ वैकल्पिक व्यवस्था भी की जायेगी. पटना सहित पुरे राज्य में ऐसी सड़कों 6 की सूची बनाई गई है. जो पथ निर्माण की वृहद जिला सड़कें (एमडीआर) हैं. अगर इन सड़कों पर अतिक्रमण है, तो इसे भी हटाया जायेगा या सड़क सकरी है तो उसे चौड़ा किया जाएगा. 

बिहार राज्य के किसी भी कोने से 5 घण्टे में राजधानी पहुचनें की योजना पर अमल करने के लिए पथ निर्माण विभाग ने कई योजनाएं बनाई इसी कड़ी में राज्य में जरूरत के अनुसार बाईपास, फ्लाईओवर, एलिवेटेड सड़क बनाने का निर्णय लिया गया है.सरकार के सात निश्चय-दो सुलभ संपर्कता योजना पर काम हो रहा है. इसके तहत राज्यभर में 120 बाईपास बनाए जाएंगे, लेकीन बाईपास बनने में 3 साल लगेंगे. तबतक इन सड़कों से गुजरने वालों को जाम का सामना नहीं करना पड़े, इसके लिए तात्कालिक उपाय किए जाएंगे. 

CM नीतीश ने अमेरिका के उद्योगपतियों को दिया न्योता, कहा-मिलेगी पूरी सहूलियत

अधिकारीयों के अनुसार विभाग ने राज्य के सभी जिले में पथवार अध्ययन किया है. अध्ययन में इस बात पर जोर रहा कि किस इलाके में सबसे अधिक जाम की समस्या आ रही है. पाया गया कि राज्य के 120 सड़कों पर जाम की समस्या आ रही है. इसमें नेशनल हाईवे की 31 तो स्टेट हाईवे की 33 सड़के हैं, जबकि सबसे अधिक एमडीआर की 56 सड़के हैं. बिहार राज्य में जाम की समस्या आम है.  

बिहार में अपराधियों का बोलबाला, जेडीयू नेता पर हमला, बदमाश गोली मारकर फरार

उत्तरी बिहार के लोगों को दिन में राजधानी पटना में प्रवेश करने में काफी मुश्किलों के सामना करना पड़ता है. इसका सबसे बड़ा कारण है, गांधी सेतु पर लगने वाला जाम है. इसी कारण लोग घंटो-घंटो इसी पुल पर फसें रहते हैं. बिहार हाईकोर्ट के आदेश के बाद हाल ही में दीघा रोड और फ्लाईवे को शुरु करने से गांधी सेतु का भार थोड़ा कम होगा.

बिहार: बढ़ते क्राइम पर तेजस्वी का CM नीतीश को खुला खत, कहा- लोगों को भयमुक्त करें

एमडीआर की सड़कें

पूर्वी चम्पारण, किशनगंज, समस्तीपुर, शेखपुरा, सीतामढ़ी, सारण, सहरसा, में एक-एक, अरवल, भागलपुर, मधुबनी, मुंगेर, पश्चिमी चंपारण, सीवान, कैमूर, औरंगाबाद, पटना, रोहतास में दो-दो, बक्सर, बेगूसराय, भोजपुर, खगड़िया, पूर्णिया, नालंदा में तीन-तीन तो मधेपुरा और गोपालगंज की चार-चार सड़कें हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें