बिहार : विद्यार्थियों और शिक्षकों को फ्री में सिखाई जाएगी अंग्रेजी, होंगे ऑनलाइन क्लास

Indrajeet kumar, Last updated: Tue, 16th Nov 2021, 9:44 AM IST
  • बिहार में शिक्षकों और विद्यार्थियों को अंग्रेजी की अच्छी जानकारी के लिए ऑनलाइन क्लास मुफ्त में दिया जाएगा. अंग्रेजी शिक्षण का ये अभियान पूरी तरह से मुफ़्त है. एससीईआरटी ने इसके लिए लिप फॉर वर्ड और मैरिको के साथ करार किया है.
फाइल फोटो

पटना. बिहार में सरकारी स्कूल के शिक्षकों और विद्यार्थियों को अंग्रेजी की अच्छी शिक्षा देने के लिए जल्द ही एक एक अभियान चलाया जाएगा. प्राइमरी स्कूल के शिक्षकों और विद्यार्थियों को इस भाषा की ट्रेनिंग ऑनलाइन दी जाएगी ताकि वे फर्राटेदार अंग्रेजी बोल पाए. ये अभियान लगातार 3 साल तक चलता रहेगा और पूरी तरह से मुफ़्त होगा यानि इसमे बच्चों और शिक्षकों को कोई फीस नहीं लगेगा. इसमें शिक्षक, विद्यार्थी और शिक्षा विभाग किसी को भी एक रुपये भी खर्च नहीं करने पड़ेंगे.

राज्य शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने पहल करते हुए इस अभियान को धरातल पर उतारने के लिए तीन संस्थाओं से एक साथ लाया है. अपर मुख्य सचिव समेत अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में शिक्षा विभाग के एससीईआरटी और संस्था लिप फॉर वर्ड एवं मैरिको के बीच करार हुआ. तीनों संस्थानों के प्रमुखों ने एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किया. ये अभियान शुरू होने के बाद लगातार 3 साल तक पूरे राज्य में चलता रहेगा. एमओयू पर हस्ताक्षर के मौके पर शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने कहा कि ये काम मुश्किल है लेकिन लगन से किया जाय तो सभी बच्चों को अंग्रेजी सिखाया जा सकता है. अंग्रेजी सीखने के बाद बच्चों में आत्मविश्वास बढ़ेगा और बच्चे देश और दुनिया के बारे में अच्छी समझ बना सकेंगे.

बिहार में बनेंगे 11 नए मेडिकल कॉलेज, मरीजों को मिलेगा राहत, 19 से बढ़कर 30 होगी संख्या

एससीईआरटी के देखरेख में चलने वाला लिप फॉर वर्ड एवं मैरिको संस्थाओं का यह अभियान पूरी तरह ऑनलाइन मोड में चलेगा. एससीईआरटी जल्द ही हर जिले में एक-एक डीपीओ को नोडल पधाधिकारी घोषित करेगा. नोडल डीपीओ और डीईओ को पहले अभियान के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी.उन्हें ट्रेनिंग देने के बाद शिक्षकों की अंग्रेजी भाषा की ट्रेनिंग होगी. इसके लिए प्रखंड स्तर पर तैयार शिक्षकों के व्हाट्सएप ग्रुप का इस्तेमाल किया जाएगा. पढ़ाई में योगदान देने वाली संस्थाएं दिल्ली से ही पढ़ाई के लिए लिंक भेजेगी और शिक्षक ऑनलाइन पढ़कर उसका फायदा उठा पाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें