20 नवंबर को EPFO के केंद्रीय बोर्ड की बैठक, EPFO कोष से आय बढ़ाने की तैयारी पर हो सकता है विचार

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 10:01 AM IST
कर्मचारी भविष्य निधि यानी ईपीएफओ में निवेश पर अब अधिक ब्याज और ज्यादा रिटर्न मिलने की संभावना बढ़ गई है. केंद्रीय भविष्य निधि संगठन 20 नवंबर को केंद्रीय न्यासी बोर्ड की बैठक में निवेश के लिए नए विकल्पों पर फैसला लेने की चर्चा करने वाले हैं.
EPFO कर्मचारी भविष्य निधि यानी ईपीएफओ में निवेश पर अब अधिक ब्याज और ज्यादा रिटर्न मिलने की संभावना बढ़ गई है

पटना। कर्मचारी भविष्य निधि यानी ईपीएफओ में निवेश पर अब अधिक ब्याज और ज्यादा रिटर्न मिलने की संभावना बढ़ गई है. केंद्रीय भविष्य निधि संगठन 20 नवंबर को केंद्रीय न्यासी बोर्ड की बैठक में निवेश के लिए नए विकल्पों पर फैसला लेने की चर्चा करने वाले हैं. बता दें पिछले 2 सालों से ईपीएफओ में महज 8.50 फीसदी ब्याज मिल रहा है. 

शेयरों में ज्यादा निवेश बढ़ाने का विकल्प

दरअसल शेयरों में निवेश बढ़ाने की अनुमति पिछले कई वर्ष पहले दी जा चुकी है. दी गई अनुमति के अनुसार शेयरों में कुछ शर्तों के साथ 15 फीसदी तक राशि निवेश किया जा सकता है. दी गई अनुमति के बावजूद ईपीएफओ अभी काफी सतर्क रुख अपनाए हुए हैं. ईपीएफओ अभी तक केवल 5 फ़ीसदी तक का निवेश ही शेयर बाजार में किया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 20 नवंबर को होने वाली बैठक में ईपीएफओ का केंद्रीय बोर्ड इन मुद्दों पर भी गहराए से चर्चा कर सकता है.

Chhath Puja 2021: जानी-अनजानी भूल-चूक के लिए छठी मईया से मांगे माफी, इस क्षमायाचना मंत्र का करें जाप

ईपीएफओ अपने अंशधारको को ज्यादा लाभ पहुंचाने पर कर रहा विचार

कई जानकारों का कहना है कि शेयर बाजार में आ रही तेजी के साथ निवेश के नए उभरते माध्यमों पर कई विकल्प मुहैया करा दिए गए हैं जिससे निवेशकों को अधिक रिटर्न मिल रहा है. इस कड़ी में ईपीएफओ भी अपने शेयरधारकों को ज्यादा से ज्यादा लाभ देने के लिए विभिन्न योजनाओं पर विचार कर रहा है. अभी ईपीएफओ को शेयर बाजार में 15 फ़ीसदी तक रुपए लगाने की अनुमति है. लेकिन अभी तक ईपीएफओ अपने कोटा का एक तिहाई राशि ही निवेश कर पाया है. ऐसे में 20 नवंबर को होने वाली केंद्रीय न्यास बोर्ड की बैठक से कुछ अच्छे फैसले आने की संभावना व्यक्त की जा रही.

अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी ने मचाई बॉक्स ऑफिस पर धूम, 4 दिन में 100 करोड़ का आंकड़ा पार

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें