दिसंबर तक पीएफ खातों में जोड़ लें नॉमिनी का नाम, वरना होगा बड़ा नुकसान

Swati Gautam, Last updated: Thu, 25th Nov 2021, 3:26 PM IST
  • कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के द्वारा ई-नॉमिनेशन अभियान चलाया जायेगा जिसमें दिसंबर तक पीएफ खाताधारकों के खाते में नॉमिनी (आश्रित) का नाम जोड़े जाएंगे. ईपीएफओ के नियमानुसार नॉमिनेशन जरूरी है वरना अंशधारकों के नहीं रहने पर उनकी जमा राशि यूं ही पड़ी रह जाएगी और परिजनों को राशि पाने में काफी मुश्किलें आएंगी.
दिसंबर तक पीएफ खातों में जोड़ लें नॉमिनी का नाम, वरना होगा बड़ा नुकसान. file photo

पटना. अगर आप भी ईपीएफओ पीएफ खाताधारक हैं तो यह खबर आपके लिए बेहद जरूरी है. बता दें कि दिसंबर तक पीएफ खाताधारकों के लिए अभियान चलाया जायेगा जिसमें खाताधारकों के खाते में नॉमिनी (आश्रित) का नाम जोड़े जाएंगे. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की कोशिश है कि ई-नॉमिनेशन अभियान के तहत बिहार के सभी पांच लाख पीएफ अंशधारकों के खाते में अनिवार्य रूप से आश्रितों का नाम जुड़ जाए. ईपीएफओ के अनुसार नॉमिनी का नाम जुड़ने से पीएफ खाताधारक के न होने पर भी बीमा या पेंशन की राशि पाने में आसानी होगी.

बुधवार को ईपीएफओ के क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त ब्रजेश कुमार संवाददाता सम्मेलन में शामिल हुए. इस दौरान उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत देश भर में ई-नॉमिनेशन का अभियान शुरू किया गया है इससे अंशदाताओं के होने या न होने पर परिजनों को बीमा या पेंशन की राशि पाने में कोई परेशानी नहीं झेलनी पड़ेगी. बता दें कि ईपीएफओ पेंशन के साथ सात आश्रितों के नहीं रहने पर सात लाख तक बीमा की राशि व पेंशन भी उपलब्ध कराता है. इसका लाभ लेने के लिए भी पीएफ खाताधारकों का नॉमिनी होना अनिवार्य है.

बिहार में सुशासन बाबू नीतीश की सरकार के 15 साल पूरे, जानें उनके पंद्रह बड़े फैसले

बुधवार को संवाददाता सम्मेलन के मौके पर जनसंपर्क अधिकारी रविकांत सिन्हा और ई-नॉमिनेशन अभियान के नोडल अधिकारी सह ईपीएफओ के सहायक भविष्य निधि आयुक्त अतुल प्रकाश भी मौके पर मौजूद थे. अतुल प्रकाश ने इस दौरान बताया की नॉमिनी का नाम खुद खाताधारकों को ही भरना होगा और नॉमिनेशन में एक से अधिक व्यक्तियों का नाम जोड़ा जा सकता है. इस अभियान के तहत दिसंबर तक सभी पीएफ खाताधारकों का नॉमिनी जोड़ने की कोशिश की जायेगी. ईपीएफओ के नियमानुसार नॉमिनेशन जरूरी है वरना अंशधारकों के नहीं रहने पर उनकी जमा राशि यूं ही पड़ी रह जाएगी और परिजनों को राशि पाने में काफी मुश्किलें आएंगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें