केंद्रीय मंत्री अश्वनि चौबे ने जताई उम्मीद, मार्च-अप्रैल 2021 तक कोरोना वैक्सीन

Smart News Team, Last updated: 30/11/2020 10:29 PM IST
  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने उम्मीद जताई है कि साल 2021 के मार्च-अप्रैल तक कोरोना वैक्सीन मिल सकती है.
अश्विनी चौबे अपनी बात रखते हुए

पटना: केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने मीडिया से बात करते हुए उम्मीद जताई है कि साल 2021 के मार्च औऱ अप्रैल तक कोरोना वैक्सीन सभी को मिल सकती है. उन्होंने आगे बताया कि हाल में पीएम मोदी ने पुणे, अहमदाबाद और हैदराबाद में बन रहे कोरोना टीका केंद्रों का दौरा किया, जिसमें पीएम ने बनाए जा रहे टीके की प्रगति को भी देखा. इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री ने कहा कि नीति आयोग और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की बैठक में टीकाकरण की योजना तैयार कर ली गई है. साथ ही तैयार टीके को चुनावों में बने पोलिंग बूथों की तर्ज पर लोगों को कोविड के टीके को लगाया जाएगा.

आपको बता दें कि टीकाकरण के पहले चरण में प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वॉरियर्स, बीमार और 65 साल से ऊपर के लोगों को यह टीका लगाया जाएगा. मंत्री ने कहा है कि घोषणा-पत्र के अनुसार सूबे के सभी लोगों को मुफ्त टीके उपलब्ध कराए जाएंगे. 

कृषि बिल किसानों के हित में, बिहार के अन्नदाताओं को नहीं होगी परेशानी: CM नीतीश

वहीं, स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने कहा कि विभाग देश में रोजाना एक करोड़ लोगों की कोरोना जांच आरटीपीसीआर मशीन से कर रहा है. मंत्री ने आगे जानकारी देते हुए कहा कि नौ जिलों में एडवांस कोविड लैब भी दिसंबर तक तैयार हो जाएंगी.

काशी में देव दीपावली पर अद्भुत नजारा, 15 लाख दीयों से सजा शहर

मंत्री द्वारा दी गई जानकारी में सबसे खास बात थी कि बिहार सरकार को 15 दिन में कोवास्क मशीन देने दिया जाएगा. इस मशीन से एक बार में दो हजार कोरोना सैंपर लिए जा सकते हैं. उन्होंने कहा कि भागलपुर और गया समेत बिहार के चार जिलों में निर्माणाधीन सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल मार्च 2021 तक शुरू हो जायेंगे. 

पटना: CM नीतीश कुमार ने किया देश के पहले स्टील एलिवेटेड पुल का उद्घाटन

किसान आंदोलन से जुड़े सवाल पर उन्होंने जवाब दिया कि कृषि बिल से किसानों को उनकी उत्पाद के तहत कीमत मिल जाएगी. इसके साथ ही अब मंडियों से बिचौलियों का काम खत्म हो जाएगा.

शराबबंदी में दारू का धंधा रोकने में नाकाम थानेदारों को DGP ने सस्पेंड किया

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें