परिवहन विभाग सिपाही भर्ती में दूसरे के स्थान पर परीक्षा देते 15 और फर्जी

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 12:46 PM IST
  • परीक्षा में फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के 15 शातिरों को गर्दनीबाग पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. ये सभी परिवहन विभाग के चलंत दस्ता सिपाही पद पर बहाली को लेकर दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने के आरोप में पकड़े गए हैं. जब कागजात और बायोमीट्रिक जांच का समय आया तो उनका फर्जीवाड़ा पकड़ा गया.
परिवहन विभाग सिपाही भर्ती में दूसरे के स्थान पर परीक्षा देते 15 और फर्जी अभ्यर्थी गिरफ्तार

पटना: गर्दनीबाग थाने की पुलिस ने आज फिर फर्जी तरीके से शारिरिक परीक्षा में शामिल 15 और मुन्ना भाइयों को किया गिरफ्तार,कल भी पकड़े गये थे पांच फर्जी अभ्यर्थी पकड़े गये सभी आरोपितों से पुलिस कर रही पूछताछ, बड़े गिरोह से तार जुड़ने की आशंका, भर्ती परीक्षा में फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के 15 शातिरों को गर्दनीबाग पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. ये सभी परिवहन विभाग के चलंत दस्ता सिपाही पद पर बहाली को लेकर दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने के आरोप में पकड़े गए हैं. जब कागजात और बायोमीट्रिक जांच का समय आया तो उनका फर्जीवाड़ा पकड़ा गया. कागजात में ना तो इनके फोटो का मिलान हुआ और ना ही बायोमेट्रिक में किसी भी उंगलियों का, पकड़े गए आरोपियों मै जितेंद्र कुमार, हंटूस कुमार, धर्मपाल, मनीष कुमार, मोनू कुमार, कुशदेव पासवान, ललित कुमार, धनराज सिंह, ज्योतिष कुमार, गुड्डू कुमार, नीरज कुमार, रामधारी राय, जितेंद्र कुमार यादव, शामिल हैं.

ये सभी भागलपुर, लखीसराय, नालंदा,पटना , रोहतास, मुंगेर, घगड़िया, अरवल, मधुबनी आदि जिलों के रहने वाले हैं. फर्जीवाड़े के इस मामले में परिवहन विभाग के अवर सेवा चयन के अधिकारी दिनेश कुमार के बयान पर गर्दनीबाग थाने में एफआईआर दर्ज करा दी गई है. इस मामले में सॉल्वर गैंग का कारनामा सामने आया है, अब पुलिस सॉल्वर गैंग तक पहुंचने की फिराक में है.

17 विदेशी जमाती ने कोर्ट में कबूला जुर्म, ढाई हजार के जुर्माने के साथ मिली ये सजा

पकड़े जाने का अंदेशा होने पर भागने लगे

पुलिस के मुताबिक चलन दस्ता सिपाही की लिखित भर्ती परीक्षा में पास अभ्यर्थियों को शारीरिक दक्षता परीक्षा के लिए मंगलवार को गर्दनीबाग इंटर कॉलेज में बुलाया था. दो महीने पहले ही लिखित परीक्षा का रिजल्ट जारी किया गया था. दक्षता परीक्षा में शामिल सभी अभ्यर्थियों की शारीरिक मानक परीक्षण के दौरान उनका बायोमेट्रिक और फोटो सत्यापित की गई, जिनमें पांच छात्रों की फोटो अलग पाई गई. इससे यह स्पष्ट हो गया कि उक्त अभ्यर्थियों ने परीक्षा में धोखाधड़ी की थी. उनके स्थान पर किसी और परीक्षा व दौड़ लगाने जा रहे थे. जब पुलिस ने उन्हें पकड़ना चाहा, तो वे भागने लगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें