आर्म्स एक्ट में दोषी पाए गए पूर्व जेडीयू विधायक रामबालक सिंह, 5 साल की जेल

Indrajeet kumar, Last updated: Fri, 17th Sep 2021, 3:34 PM IST
  • समस्तीपुर जिला अदालत ने करीब 21 साल पुराने मामले में पूर्व जदयू विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई को आर्म्स एक्ट और हत्या के प्रयास में दोषी पाया है. अदालत ने दोनों भाई को पांच साल की सजा और 15 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. रामबालक सिंह पर आरोप है कि उनके कहने पर ही ललन सिंह पर गोली चलाई गई.
पूर्व जदयू विधायक रामबालक सिंह, सोर्स : फाइल फोटो 

पटना. समस्तीपुर जिला कोर्ट ने विभूतिपुर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व जदयू विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई को आर्म्स एक्ट और हत्या के प्रयास जैसे मामले में 5 साल की सजा सुनाई है. साथ ही अदालत ने ऊपर 15 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. अदालत ने 10 सितंबर को ही रामबालक सिंह और उनके भाई लालबाबू सिंह को दोषी बताया था. रामबालक सिंह पर आरोप है कि साल 2000 में उनके कहने पर ही माकपा नेता ललन सिंह पर गोली चलाई गई थी.

गौरतलब है कि ललन सिंह 4 जून 2000 को शिवनाथपुर में गंगा सिंह की बेटी के शादी में शामिल होने गए थे. इसी शादी में पूर्व विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई लालबाबू सिंह भी आए थे. रामबालक सिंह और ललन सिंह के बीच पहले से ही किसी बात को लेकर विवाद था. इस दौरान ललन सिंह को देखते ही पूर्व विधायक रामबालक और उनके भाई ने ललन सिंह को पकड़ने के लिए दौड़ा दिया. लेकिन ललन सिंह वहां से भागने में कामयाब रहे.

लोजपा सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप आरोप

इसके बाद विधायक और उनके भाई ने अपने अपने लोगों के साथ ललन सिंह का पीछा किया. इसी दौरान विधायक के भाई ने ललन सिंह पर फायरिंग कर दी. गोली ललन सिंह के हाथ के उंगली में लगी और उंगली और उंगली कट है. जिसके बाद ललन सिंह बेहोश होकर गिर गए. बेहोश होते देख और कुछ लोगों को आते पूर्व विधायक और उनके लोग वहां से फरार हो गए.

जेल से जल्द बाहर आएंगे पप्पू यादव, HC में गवाही पूरी होने के बाद बढ़ी उम्मीदें

अदालत की ओर से दोषी ठहराए जाने के बाद पूर्व विधायक के वकील कर्मवीर कुमार में बताया कि अदालत ने पूर्व विधायक और उनके भाई को 354 और 27 आर्म्स एक्ट के तहत दोषी पाया है. दोषी विधायक के वलील ने बताया कि वो इस फैसले को हाइकोर्ट में चुनौती देंगे. हालांकि विधायक ने अभी कुछ बोलने से मना किया है. उन्होंने कहा कि हम अदालत के फैसले का सम्मान करते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें