वशिष्ठ नारायण सिंह बोले- ललन सिंह अनुशासन प्रिय, JDU में गुटबाजी चलने वाली नहीं

Smart News Team, Last updated: Mon, 9th Aug 2021, 8:17 PM IST
  • जनता दल यूनाइटेड के पूर्व अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने पोस्टर विवाद पर सफाई पेश की है. वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि पार्टी में कोई गुटबाजी नहीं है. इक्का दुक्का घटनाओं को गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है. ललन सिंह एक अनुशासन प्रिय नेता हैं और उनके इस पद पर बने रहने से पार्टी में अनुशासन रहेगा.
वशिष्ठ नारायण सिंह ने जेडीयू पोस्टर विवाद पर सफाई पेश की है. 

जनता दल यूनाइटेड के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में ललन सिंह के चुने जाने के बाद पार्टी में नेताओं के बीच आपसी खींचतान जारी है. ताजा मामला एक पोस्टर से जुड़ा है. दरअसल कल पूर्व विधायक अभय कुशवाहा ने आरसीपी सिंह के स्वागत में पोस्टर लगाया था. पोस्टर में 14 नेताओं की तस्वीर थी लेकिन मौजूदा पार्टी अध्यक्ष ललन सिंह की तस्वीर गायब थी. इसी के बाद पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेता सफाई देते नजर आ रहे हैं. जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने दावा किया की पार्टी में कोई गुटबाजी नहीं है, न कोई तनाव है और ऐसे इक्का दुक्का मामलों को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए.

वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह एक अनुशासन प्रिय नेता हैं. उनके इस पद पर बने रहने से पार्टी में अनुशासन रहेगा. जेडीयू नेता ने कहा कि गुटबाजी का पार्टी में कोई स्थान नहीं है. उन्होंने कहा कि ललन सिंह स्पष्टवादी नेता हैं और ऐसा कुछ हो ही नहीं सकता है. उन्होंने किसी भी तरह का विवाद होने से इनकार कर दिया है. आरसीपी सिंह ने खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए ललन सिंह के नाम के प्रस्वात रखा था.

CM नीतीश ने फिर उठाई जातीय-जनगणना की मांग, कहा- यह सभी के विकास के लिए जरूरी

पूर्व जेडीयू अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी में किसी भी तरह का विवाद और गुटबाजी चलने वाली नहीं है. कभी कभी कुछ लोग किसी से व्यक्तिगत रुप से प्रभावित हो जाते हैं, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि वह पार्टी से अलग हैं. ललन सिंह पार्टी को मजबूत और संगठित करने का काम करेंगे. मैं छात्र राजनीति से उन्हें जानता हू्ं. समता पार्टी के निर्माण और उसे आगे बढ़ाने में ललन सिंह ने नीतीश कुमार का साथ जबरदस्त तरीके से दिया था.

PM मोदी ने जारी की किसान सम्मान निधि की 9वीं किस्त, पैसे नहीं आए तो ऐसे करें चेक

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें