बिहार की राजनीति में राष्ट्रीय शोषित समाज दल की एंट्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि का ऐलान

Ankul Kaushik, Last updated: Sun, 5th Sep 2021, 12:03 PM IST
  • बिहार की राजनीति में एक नई पार्टी की एंट्री होने जा रही है. इस पार्टी के नाम राष्ट्रीय शोषित समाज दल है और इस नई पार्टी का ऐलान पूर्व केंद्रीय मंत्री और शहीद जगदेव सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष नागमणि ने किया है.
पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि कुशवाहा बिहार में लाएंगे नई पार्टी, फोटो क्रेडिट (एएनआई) 

बिहार. पूर्व केंद्रीय मंत्री और शहीद जगदेव सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष नागमणि कुशवाहा बिहार की राजनीति में अपनी नई पार्टी लाने जा रहे हैं. पूर्व केंद्रीय मंत्री 30 सितंबर को राजधानी पटना में राष्ट्रीय कुशवाहा सम्मेलन में करेंगे और इस सम्मेलन में ही अपनी नई पार्टी की घोषणा करेंगे. नागमणि द्वारा बिहार की राजनीति में लाई जा रही है इस नई पार्टी का नाम राष्ट्रीय शोषित समाज दल होगा. इस पार्टी का असर कुशवाहा जाति के वोट बैंक पर पड़ सकता है. बिहार की राजनीति में नई पार्टी की स्थापना करने वाले नागमणि कुशवाहा के भाजपा, जदयू, लोजपा और राजद में रह चुके हैं, इसलिए इनको बिहार की बड़ी पार्टियों का अनुभव है. अब देखना ये होगा कि नागमणि कुशवाहा की नई पार्टी का बिहार की जनता पर कितना असर पड़ सकता है. क्योंकि कुशावाह जाति से कई नेता हैं जिसमें उपेंद्र कुशवाहा की बड़े नेताओं में गिनती की जाती है.

बता दें बिहार के नागमणि काफी समय से राजनीति में सक्रिय हैं और वह बिहार के हर दल के साथ काम कर चुके हैं. इन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत अपने पिता जगदेव प्रसाद की स्‍थापित की गई पार्टी शोषित समाज दल से की थी. नागमणि की यह पार्टी बीजेपी में मर्ज हो गई थी और वहीं अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में यह मंत्री भी रह चुके हैं.

चिराग पासवान का CM नीतीश पर निशाना, बोले- मेरी पार्टी और परिवार को तोड़ा

नई पार्टी के ऐलान को लेकर नागमणि कुशवाहा ने बताया कि नई पार्टी के गठन का जल्द ही लिया जाएगा. इसके साथ ही कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए 30 सितंबर को गांधी मैदान में कुशवाहा महाशक्ति सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा. बता दें कि बिहार में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी से अलग होने के बाद नागमणि ने पार्टी के सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा पर आरोप लगाया था. इसके साथ ही आरएलएसपी के जेडीयू में विलय पर नागमणि ने कहा था कि कुर्सी और सत्ता के लोभ में उपेंद्र कुशवाहा ने कुशवाहा समाज के सम्मान को दाव पर लगा दिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें