बिहार में हर साल लगेंगे 40 नए कृषि उद्योग, भारत सरकार करेगी लाखों रुपए की मदद

Smart News Team, Last updated: Sun, 23rd May 2021, 9:02 PM IST
  • भारत सरकार की नई योजना के तहत बिहार में युवकों को हर साल 40 कृषि उद्योग लगाने का मौका देगी. सरकार इसके लिए पैसा देगी और ट्रेनिंग भी देगी. बिहार के इन 40 युवकों का चयन बिहार कृषि विश्वविद्यालय करेगी.
इस योजना के तहत बिहार में कृषि उद्योग के लिए 5 लाख से 25 लाख रुपए की सहायता राशि दी जाएगी. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में कोरोना काल में बेरोजगार हुए नौजवानों के पास रोजगार का बढ़िया मौका है. कृषि उद्योग के बेस्ट आइडिया वाले युवकों को भारत सरकार उद्योग लगाने के लिए लाखों रुपए देगी. इस योजना से हर साल बिहार में 40 नए कृषि उद्योग लगेंगे. इसके लिए आवेदन कृषि विश्वविद्यालय में करना होगा. विद्यालय 40 लोगों का चयन करेगी. जिनको केन्द्र सरकार ट्रेनिंग भी देगी.

इस बारे में बिहार विश्वविद्यालय के डॉ. आरके सोहाने ने कहा कि योजना का उद्देश्य रोजगार का अवसर बढ़ाने के साथ युवकों को रोजगार प्रोवाइडर बनाना है. राज्य में कृषि क्षेत्र में अधिक संभावनाएं हैं. उन्होंने कहा कि योजना पर काम शुरू हो गया है. पहले साल के कोटे में बिहार के 18 युवाओं का चयन हुआ है. बाकी के लिए फिर से ट्रेनिंग दी जाएगी. हर साल 40 युवकों को सरकार सहायता देगी.

मानसून आने की सूचना लेकर आए ओपन बिल्ड स्टॉक पक्षी,लोगों को अच्छी बारिश की उम्मीद

इस योजना के तहत दो कंपोनेंट हैं, उमंग और स्वावलंबी. उमंग में नौजवानों को ट्रेनिंग के दौरान 10 हजार रुपए स्टाइपेंड मिलेगा. अगर उनका आइडिया केन्द्र सरकार ने सेलेक्ट किया तो उनको 5 लाख रुपए की सहायता राशि मिलेगी. वहीं स्वावलंबी में ट्रेनिंग के दौरान 25 हजार रुपए मिलेंगे और आइडिया चयन होने पर 25 लाख रुपए की मदद की जाएगी.

गुड न्यूज: बिहार में लगातार गिर रहा कोरोना ग्राफ, पटना में 4002 नए कोविड केस

युवकों को ट्रेनिंग के दौरान आवास और खाने-पीने की व्यवस्था अलग से की जाएगी. भारत सरकार की इस योजना के तहत देश के जिन 40 संस्थाओं को चुना गया है, उनमें बिहार कृषि विश्वविद्यालय भी शामिल है. बिहार कृषि विश्वविद्यालय हर साल उमंग और स्वालंबी दोनों कंपोनेंट में 20-20 युवकों को चयन करेगी. जिसके बाद उसे ट्रेनिंग और स्टाइपेंड दिया जाएगा. आइडिया चुने जाने पर लाखों रुपए उद्योग लगाने के लिए मिलेंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें