आर्थिक बोझ! अंतिम संस्कार के लिए भी सोचना पड़े, साढ़े 10 हजार में जलाए जा रहे शव

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Dec 2020, 11:46 AM IST
  • कोरोना संक्रमण के कारण हुई मौत पर शवदाह के लिए 10,500 रूपये निर्धारित किये गए हैं. कोरोना काल में मृत्यु पर भी अब अधिक शुल्क देना पड़ रहा है. गरीब व्यक्ति के लिए काफी बड़ी रकम है. जहां पहले 350 रूपए देने पड़ते थे लेकिन अब दस हजार से भी ज्यादा की रकम देनी पड़ेगी.
कोरोना संक्रमण के कारण महंगा हुआ शवदाह.(प्रतीकात्मक फोटो)

पटना. कोरोना संक्रमण के कारण विद्युत शवदाह गृह में संक्रमितों के शव जलाने के लिए बड़ी रकम अदा करनी होगी. कोरोना संक्रमण के कारण हुई मौत पर शवदाह के लिए 10,500 रूपये निर्धारित किये गए हैं. कोरोना काल में मृत्यु पर भी अब अधिक शुल्क देना पड़ रहा है. गरीब व्यक्ति के लिए काफी बड़ी रकम है. जहां पहले 350 रूपए देने पड़ते थे लेकिन अब दस हजार से भी ज्यादा की रकम देनी पड़ेगी. 

मामले पर बात करते हुए पटना नगर निगम की महापौर सीता साहू ने बताया कि हम कोशिश कर रहे हैं कि सभी विद्युत शवदाह गृह की मरम्मत करवाई जाए और नये विद्युत शवदाह गृह की संख्या बढ़ाया जाए. इसके लिए हम लगातार सरकार से संपर्क कर रहे हैं.बासघाट विद्युत शवदाह गृह में मरम्मत का काम होना बाकी है इसलिए इसे बंद किया गया है. जर्जर अवस्था में होने के कारण इसे बंद कर दिया गया था. गुलबीघाट विद्युत शवदाह गृह चल रहा है लेकिन प्रशासन ने इस पर कोरोना संक्रमण के कारण हुई मौतों के शव का दाह करने से मना किया है. 

पटना के पूर्व टाउन डीएसपी के खिलाफ होगी विभागीय कार्यवाही, गृह विभाग का आदेश

बासघाट विद्युत शवदाह गृह सरकारी व्यवस्था में खराबी के चलते पिछले 17 दिनों से बंद है. पाटिलपुत्र अंचल की कार्यपालक पदाधिकारी प्रतिभा सिन्हा ने जानकारी दी है कि मरम्मत करने के बाद जल्द ही शवदाह गृह को चालू कराया जाएगा. वहीं खाजेकला घाट विद्युत शवदाह गृह को शुरू करने के लिए बोरिंग लग गई है. अब सिर्फ बिजली कनेक्शन होना है. बांसघाट व खाजेकलां घाट का विद्युत शवदाह गृह बंद हैं जिसके कारण गरीबों को ज्यादा धनराशि खर्च करनी पड़ रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें