Ganesh chaturthi 2021: राजधानी सुपरफास्ट से पटना पधारे लाल बाग के राजा, खास होगा गणेश चतुर्थी उत्सव

Pallawi Kumari, Last updated: Thu, 9th Sep 2021, 7:22 AM IST
  • पटना में गणेश उत्सव की तैयारी शुरू हो चुकी है.लालबाग के राजा को बीते दिन बुधवार को पटना लाया गया. मुंबई राजेंद्रनगर सुपरफास्ट एक्सप्रेस से लालबाग के राजा को पटना लाया गया.
पटना पधारे लाल बाग के राजा. फोटो साभार-हिन्दुस्तान

पटना: राजधानी पटना में गणेश उत्सव की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है. पिछले साल कोरोना महामारी को देखते हुए धूम-धाम से गणेश उत्सव नहीं किया गया था. लेकिन इस साल सामाजिक दूरी और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए गणेश चतुर्थी की तैयारी की जा रही है. बीते दिन बुधवार को लाल बाग के राजा पटना पधारे और इसी के साथ भक्तों में गणेश उत्सव को लेकर उथ्साह औऱ बढ़ गया. 

मुंबई सुपरफास्ट एक्सप्रेस से लाल बाग राजा को पटना लाया गया. कल यानी 10 सितंबर को सुबह 10:30 बजे पटना स्थित महाराष्ट्र मंडल के भवन में श्री गणेश की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी. हालांकि इस बार लाल बाग के राजा की प्रतिमा सिर्फ 6 फीट की है, जो कि हर बार से थोड़ी कम है. लेकिन गणपति की भव्य और आकर्षित प्रतिमा देख भक्त निहाल हो गए.

भगवान गणेश को क्यों पसंद है दूर्वा? गणेश चतुर्थी 2021 पर जानें गणपति को प्रसन्न करने के उपाय

जोर-शोर से चल रही तैयारी- गणपति की प्रतिमा के साथ पंडाल की खूबसूरती का भी खास ख्याल रखा जा रहा है. पंडाल की प्रतिदिन रंग और खूश्बू से विषेश साज सज्जा के लिए कोलकाता से कारीगर बुलाए जा रहे हैं. इसके अलावा कोलकाता से भगवान ने पूजा और श्रृंगार के लिए विशेष फूल भी मंगवाए जाएंगे. पूजा के लिए महाराष्ट्र से पंडित प्रशांत जहांगीरदार को बुलाया जा रहा है.

ये है कार्यक्रम- 10 सिंतबर को श्री गणेश की प्राण प्रतिष्ठा के बाद शाम को आरती का कार्यक्रम होगा. 11 सितंबर को हल्दी कुमकुम का आयोजन किया जाएगा और पांच दिनों तक पूजा पाठ के बाद 14 सितंबर को गणपति बप्पा को विदाई के साथ विजसर्न किया जाएगा.

पटना के महाराष्ट्र मंडल सचिव संजय भोसले ने बताया कि गणपति की प्रतिमा रेलवे पार्सल के जरिए मुंबई से पटना पहुंची है. पिछले साल गणेश चतुर्थी पर कोई आयोजन नहीं किया गया था, लेकिन इस बार हम सामाजिक दूरी का पालन करते हुए गणेशउत्सव कर रहे हैं.

गणेश चतुर्थी से पहले यहां कीजिए लाल बाग के राजा के दर्शन, कहे जाते हैं मन्नतों के देवता

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें