लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, न्यू बाइपास से 5 गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Fri, 23rd Oct 2020, 3:27 PM IST
  • पुलिस ने आरोपियों को छापामारी कर गिरफ्तार कर लिया है. पचा चला है कि पांचों आरोपियों ने न्यूज बाइपास इलाके में फ्लैट किराए में लिया हुआ था और वहीं से अखबार व सोशल मीडिया में विज्ञापन आदि देकर नामचीन फाइनेंस कंपनी से लोन दिलाने के नाम पर बेरोजगार युवकों और लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे.
कंकड़बाग थाना पुलिस नेन्यू बाइपास इलाके में छापामारी कर ठग गिरोह के पांच लोगों को गिरफ्तार किया है.

पटना. पुलिस ने न्यूज बाइपास इलाके में एक बड़े ठग गिरोह को पकड़ा है. कंकड़बाग थाना पुलिस ने इस गिरोह को पकड़ने के लिए न्यू बाइपास इलाके में छापामारी की और वहां से पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए पांचों आरोपी बहुत शातिर थे. पता चला है कि यह गिरोह के सदस्य न्यूज बाइपास इलाके में सक्रिय थे. नामचीन फाइनेंस कंपनी से लोन दिलाने के नाम पर बेरोजगार युवकों व अन्य नौजवानों को अपना शिकार बनाते थे. पुलिस ने ठगी करने वाले इन पांचों शातिरों को गिरफ्तार कर लिया है.

गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान विवेक कुमार, आनंद किशोर, सुजीत कुमार और उदय कुमार के तौर पर हुई है. पुलिस ने पूछताछ के दौरान इन आरोपियों की निशानदेही पर इनके ठिकानों पर भी छापामारी की है. जहां से पुलिस को लोगों को ठगी का शिकार बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला काफी सामान बरामद हुआ है. पुलिस ने इन युवकों के ठिकानों से एक कंप्यूटर, एक लैपटॉप, आठ से अधिक मोबाइल और अलग-अलग मोबाइल कंपनियों के दर्जनों सिम कार्ड, साउंड बॉक्स, 6 रजिस्टर आदि बरामद किए हैं.

बिहार चुनाव: राहुल गांधी का पीएम पर हमला, कहा- PM ने वीर जवानों का किया अपमान

पुलिस उनसे बरामद सामान की छानबीन कर केस की तफ्तीश कर रही है. यह भी पता चला है कि इस गिरोह के सदस्य नांलदा के कतरीसराय के रहने वाले हैं. इस गिराेह के सदस्यों ने कई बेरोजगार व अन्य लाेगाें को लोन दिलाने का झांसा देकर उनसे लाखों रुपए की ठगी की है. पुलिस ने इनके ठिकानों से छह रजिस्टर भी बरामद किए हैं. पुलिस इन 6 रजिस्टरों में दर्ज नाम-पतों आदि को खंगाल कर केस की तफ्तीश कर रही है.

पुलिस की जांच में यह बात भी सामने आई है कि पकड़े गए पांचाें शातिर ठगों ने न्यू बाइपास इलाके में एक फ्लैट किराए पर लिया हुआ था और वहां यह बताया हुआ था कि वह स्टडी करते हैं. उसी फ्लैट में रहकर ये ठग अखबार, साेशल मीडिया आदि पर नामचीन फाइनेंस कंपनी से लाेन दिलाने का विज्ञापन देते थे. यही नहीं फेसबुक, मैसेंजर आदि से बेराेजगाराें व भाेले- भाले लाेगाें को फोन कर खुद को फाइनेंस कंपनी का बड़ा अधिकारी बताकर भी उन्हें अपनी ठगी का शिकार बनाते थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें