रामविलास पासवान को मरणोपरांत पद्म भूषण, राजनीति के लिए छोड़ी थी DSP की नौकरी

Nawab Ali, Last updated: Mon, 8th Nov 2021, 12:16 PM IST
  • बिहार के दिवंगत नेता रामविलास पासवान को मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित किया जायेगा. रामविलास पासवान ने जेपी आंदोलन से जुड़ने के बाद अपनी पहचान बनाई थी और केंद्र सरकारों में कई बड़े विभागों में मंत्री रहे हैं.
रामविलास पासवान को मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मनित किया जायेगा. फाइल फोटो

पटना. बिहार के मंझे हुए नेता माने जाने वाले दिवंगत रामविलास पासवान को भारत सरकार द्वारा मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित किया जायेगा. मंगलवार को समारोह का आयोजन कर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जल्द ही 119 पद्म पुरस्कार प्रदान करेंगे. एलजेपी के दिवंगत दिग्गज नेता रामविलास पासवान को भारत सरकार ने उनके निधन के बाद पद्म भूषण सम्मान देने की घोषणा की थी. पद्म भूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है जो देश को बहुमूल्य योगदान के लिए दिया जाता है. रामविलास पासवान अपने राजनीतिक सफर में केंद्र सरकार में कई महत्वपूर्ण पदों पर मंत्री रहे हैं.

1946 में बिहार के खगड़िया में जन्म लेने वाले रामविलास पासवान को भारत सरकार द्वारा मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित जायेगा. रामविलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में 8 अक्टूबर 2020 को बिमारी के कारण निधन हो गया था. बिहार की राजनीति में रामविलास पासवान एक बड़ा नाम माना जाता है. जेपी आंदोलन में रामविलास पासवान ने सक्रीय भूमिका निभाई थी और साल 1977 में बिहार की हाजीपुर लोकसभा सीट से चुनाव जीते. इस चुनाव में उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को सवा चार लाख वोटों से शिकस्त दी थी. बिहार में रामविलास पासवान को दलितों और पिछड़ों का नेता कहा जाता है. अपने कॉलेज के दिनों में अनुसूचित जाति के लड़कों के लिए एक ही हॉस्टल होने पर संघर्ष शुरू कर दिया था.

बिहार में डीजे बजाने से मना करने पर थानाध्यक्ष को मारी गोली, एक SAP जवान भी घायल

डिप्टी एसपी के लिए हुआ था चयन

रामविलास पासवान का चयन डिप्टी एसपी के पद पर हो गया था लेकिन राजनीति में मन होने के कारण उन्होंने नौकरी छोड़ दी. उनके पिता नहीं चाहते थे कि वो नौकरी छोड़कर राजनीति में जाए लेकिन पिता की इच्छा के खिलाफ जाकर उन्होंने राजनीति ज्वाइन की. उन्होंने अपनी राजनीतिक जीवन में कुल 11चुनाव लड़ें हैं जिनमें से वो 9 चुनाव में जीते हैं. आपने राजनीति के कार्यकाल में राम विलास पासवान ने छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया है जो कि एक रिकॉर्ड है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें