बिहार में घरेलू, कमर्शियल LPG गैस सिलेंडर के दाम बढ़े, जानें नई कीमत

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Jul 2021, 5:34 PM IST
  • बिहार में 1 जुलाई से एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमतें बढ़ा गई हैं. 14.2 किलो वाला घरेलू गैस सिलेंडर सीधा 25 रूपये बढ़ा दिया गया है. जून तक घरेलु गैस सिलेंडर 907.50 रूपये था वह बढ़ाकर 933 कर दिया गया है. वहीं कमर्शियल गैस सिलेंडर में भी 83 रूपये की बढ़ोतरी हुई है।
बिहार में घरेलू के साथ कमर्शियल सिलेंडर के भी दाम बढ़े, जानें नई कीमत

पटना. सरकारी तेल कंपनियों ने 1 जुलाई यानी आज से बिहार में घरेलू एलपीजी सिलेंडर के साथ-साथ कमर्शियल गैस सिलेंडरों की भी कीमतों में बढ़ोत्तरी कर दी है. घरेलू रसोई में इस्तेमाल किए जाने वाले गैस सिलेंडर की कीमतों ने सीधी 25 रुपये की छलांग मारी है. बिहार में 14.2 किलोग्राम वाला घरेलू गैस सिलेंडर जून तक 907.50 रूपये का था जो की 1 जुलाई को बढ़ा कर 933 रूपये कर दिया गया है. वहीं 19 किलोग्राम के कमर्शियल गैस सिलेंडर के दाम में भी 83 रुपये की बढ़ोतरी हुई.

बता दें कि व्यवसायिक रूप से इस्तेमाल होने वाले 19 किलोग्राम के कमर्शियल सिलेंडर की कीमत जहां 1685.50 रुपये थी उसे बढ़ाकर 1768.00 रुपये कर दिया गया है. इसी तरह बड़े रेस्टोरेंट , होटलों व अन्य किसी व्यावसायिक प्रतिष्ठान में इस्तेमाल किए जाने वाले 47 किलोग्राम वाले सिलेंडर के दाम में भी सीधा 205.50 रूपये की बढ़ोतरी हुई है. 47 किलो वाला कमर्शियल सिलेंडर का दाम जून तक 4208.50 रुपये था 1 जुलाई से यह  4414.00 रुपये कर दिया गया है. इससे यह देखा जा सकता है कि एलपीजी गैस की कीमतों में हुई वृद्धि से न केवल आम आदमी की जेब खाली होगी बल्कि औद्योगिक तौर पर गैस इस्तेमाल किए जाने वाले व्यवसायों पर भी इसका अच्छा खासा प्रभाव पड़ेगा.

पटना में नल-जल की समस्या को दूर करने के लिए संवेदक पर होगा जिम्मा

 

पहले पेट्रोल डीजल और अब एलपीजी गैस की कीमतें आसमान छू रही हैं जिसके चलते लोग काफी परेशान हैं. बता दें कि एलपीजी की कीमत मुख्य रूप से राज्य द्वारा संचालित तेल कंपनियों द्वारा ही निर्धारित की जाती है. सरकारी तेल कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को गैस सिलेंडर के दामों में बदलाव करती हैं लेकिन अप्रैल, मई और जून में गैस सिलेंडर के रेट में कोई इजाफा नहीं किया गया था. मार्च के महीने के बाद सीधा अब तेल कंपनियों ने गैस सिलेंडर की कीमतों में बढ़ोत्तरी की है।

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें