अलर्ट: बिहार में भी होगा 'गुलाब' तूफान का असर, 28 जिलों को किया गया अलर्ट

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Thu, 30th Sep 2021, 3:23 PM IST
  • बंगाल की खाड़ी से उठने वाली चक्रवाती तूफान गुलाब का असर बिहार में भी देखने को मिल रहा है. मौसम विभाग ने बिहार के 28 जिलों में अलर्ट घोषित कर दिया है. बिहार में गुलाब चक्रवाती तूफान के प्रभाव को लेकर मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने बंगाल की खाड़ी से उठे तूफान के स्वभाव में बदलाव को जिम्मेदार माना है.
गुलाब चक्रवाती तूफान के प्रभाव को लेकर मौसम विभाग का बिहार को अलर्ट(प्रतीकात्मक फोटो)

पटना: बंगाल की खाड़ी से उठने वाली चक्रवाती तूफान गुलाब का असर बिहार में भी देखने को मिल रहा है. इस बाबत मौसम विभाग ने बिहार के 28 जिलों में अलर्ट घोषित कर दिया है. मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटों में बिहार के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की आशंका जताई है. 

 

दरअसल बिहार में गुलाब चक्रवाती तूफान के प्रभाव को लेकर मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने बंगाल की खाड़ी से उठे तूफान के स्वभाव में बदलाव को जिम्मेदार माना है. मौसम विभाग के वैज्ञानिकों के अनुसार उत्तर- पूर्व और दक्षिण- मध्य बंगाल की खाड़ी पर बने चक्रवातीय हवा के क्षेत्र के प्रभाव के कारण उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी और बंगाल के तट पर कम दबाव का क्षेत्र बन गया है. बंगाल के तट पर बने कम दबाव के क्षेत्र के कारण ही बिहार में तेज हवा के साथ भारी बारिश की आशंका बनती दिख रही है.

बिहार पुलिस में अब बिना ट्रेनिंग पूरी किए किसी भी सिपाही की नहीं लगेगी ड्यूटी

 

इन जिलों को किया गया है अलर्ट

बंगाल की खाड़ी में बने लो प्रेशर के कारण मौसम विभाग ने बिहार के 28 जिलों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. अलर्ट किए गए जिलों में भागलपुर, जमुई, बांका, मुंगेर, खगड़िया और दक्षिण बिहार के गया, जहानाबाद, पटना, नालंदा, नवादा, लखीसराय, शेखपुरा, बेगूसराय, रोहतास, भभुआ, बक्सर, सासाराम, औरंगाबाद, अरवल और भोजपुर है. साथ ही उत्तर बिहार के सिवान, सारण, पूर्वी चंपारण , पश्चिमी चंपारण, मुजफ्फरपुर , गोपालगंज, सीतामढ़ी, दरभंगा , मधुबनी , शिवहर, समस्तीपुर और वैशाली को भी अलर्ट किया गया है. वहीं आपदा प्रबंधन विभाग ने भी सभी जिलों को सतर्क रहने को कहा है.

बिहार में 25 साल से ज्यादा पुराने, छोटे बिजलीघर होंगे बंद, कांटी और बरौनी से शुरुआत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें