गुप्तेश्वर पांडेय होंगे JDU में शामिल, अशोक चौधरी बने प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष

Smart News Team, Last updated: Sun, 27th Sep 2020, 3:28 PM IST
इससे पहले भी लोकसभा चुनाव 2009 में गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस लिया था. वह बिहार के बक्सर लोकसभा सीट से बीजेपी के टिकट पर लड़ना चाहते थे, लेकिन बात नहीं बन पाई. इस बार वह बक्सर के किसी किसी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.
Former DGP Gupteshwar Pandey arrives at Janta Dal-United headquarter to attend a meeting with Bihar Chief Minister Nitish Kumar, in Patna on Saturday. (ANI Photo)

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर नीतीश सरकार में भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी को बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. अशोक चौधरी को जेडीयू ने कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष बनाया है. यह जिम्मेदारी उन्हें जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर मिली है. वहीं दूसरी ओर एक बड़ी खबर आ रही है. कुछ दिनों पहले ही वीआरएस लेने बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में शामिल हैं. आज शाम जेडीयू के वरिष्ठ नेता ललन सिंह और अशोक चौधरी की प्रेस कॉन्फ्रेंस होने वाली है. इसमें गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू की सदस्यता ले सकते हैं.

BJP के टिकट के लिए पटना पार्टी ऑफिस पर कार्यकर्ताओं में मारपीट

इससे पहले भी लोकसभा चुनाव 2009 में गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस लिया था. वह बिहार के बक्सर लोकसभा सीट से बीजेपी के टिकट पर लड़ना चाहते थे, लेकिन बात नहीं बन पाई. इस बार वह बक्सर के किसी किसी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.

लोकसभा चुनाव 2009 में बीजेपी की टिकट से लालमुनि चौबे ने चुनाव लड़ा. टिकट नहीं मिलने पर 9 महीने बाद नीतीश कुमार ने गुप्तेश्वर पांडेय की वीआरएस वापस लेने की अर्जी को स्वीकार कर लिया था. इसके बाद गुप्तेश्वर पांडेय बिहार के डीजीपी भी रहे.

तीन चरणों में होंगे चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव इस बार तीन चरणों में होंगे. 28 अक्टूबर को पहले चरण में 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों पर वोटिंग होगी. 3 नवंबर को दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर वोटिंग होगी और सात नवंबर को तीसरे चरण में 15 जिलों की 78 सीटों पर वोटिंग होगी. नतीजों का ऐलान 10 नवंबर को होगा. पहले चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर, दूसरे चरण की 3 नवंबर और तीसरे चरण की 7 नवंबर को होगी. वोटों की गिनती 10 नवंबर को की जाएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें