मांझी के बयान पर BJP नेता का पलटवार, HAM बोला- एनडीए को औकात पता लग जाएगी…

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 28th Dec 2021, 11:24 AM IST
  • बिहार के मंत्री नीरज कुमार बबलू ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी को राजनीति से सन्यास लेकर राम नाम जपने की सलाह दी. उनके इस बयान पर हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि अगर हमने अपने चार विधायक हटा लिए सब सड़क पर राम नाम जपने लगेंगे.
जीतन राम मांझी व नीरज कुमार बबलू

पटना. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व हम प्रमुख जीतनराम मांझी द्वारा ब्राह्मणों पर दिए गए बयान पर आए दिन कुछ न कुछ नई चर्चा होती है. अब बिहार के मंत्री व बीजेपी नेता नीरज कुमार बबलू से मांझी के ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक बयान को लेकर जब सवाल किया तो उन्होंने मांझी को राजनीति से सन्यास लेने की बात कही. बिहार के वन पर्यावरण मंत्री नीरज कुमार बबलू ने मांझी के बयान की निंदा करते हुए कहा कि मांझी वरिष्ठ नेता हैं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें मुख्यमंत्री जैसे पद पर बैठाया. इतने सम्मानित जगह तक वे पहुंचे और ऐसी स्थिति में इस तरह का बयान देना कहीं से उचित नहीं है. मुझे लगता है कि उन पर उम्र का असर हो गया है और इस वजह से वे ऐसे बयान दे रहे हैं. उनका बेटा मंत्री है, इसलिए अपने बेटे के भविष्य के लिए उन्हें घर बैठ जाना चाहिए. मांझी को राजनीति छोड़कर राम-राम जपना चाहिए.

वहीं बीजेपी नेता नीरज कुमार बबलू के इस बयान पर हम (हिंदुस्तान अवाम मोर्चा) के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने आपत्ति जताई है. दानिश रिजवान ने कहा कि नीरज बबलू कौन होते हैं मांझी जी को सलाह देने वाले. अगर हम अपनी पार्टी के चार विधायक को हटा लें तो एनडीए को औकात मालूम पड़ जाएगी. जो अभी मंत्री बने बैठे हैं सब सड़क पर राम नाम जपने लगेंगे. इसके साथ ही रिजवान ने कहा कि नीरज बबलू को कुछ बोलने से पहले उम्र का ख्याल रखना चहिए कि वह किसके बारे में क्या बोल रहे हैं.

ब्राह्मणों पर विवादित बयान के बाद जीतन राम मांझी के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात

बता दें कि जीतनराम मांझी ने एक जनसभा में ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिया था. इनके इस बयान के बाद बिहार सहित पूरे देश में जनता में रोष देखने को मिला था. इसके बाद मांझी ने ट्वीट करके लिखा था- पंडितों के खिलाफ बोले गए मेरे शब्द”स्लिप ऑफ टंग”हो सकता है जिसके लिए मैं खेद प्रगट करता हूं. वैसे मैं ब्राम्हण नहीं ब्राम्हणवाद के खिलाफ हूं, ब्राम्हणवाद दलितों से नफरत करता है,दलितों को अछूत बताता है,गले में हडिया,कमर में झाडू,पैर में घूंघरू बंधवाया है. इनका विरोध जारी रहेगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें