नई सरकार के पहले विधानसभा सत्र के लिए जीतन राम मांझी बने प्रोटेम स्पीकर

Smart News Team, Last updated: 19/11/2020 12:46 PM IST
  • सूबे के राज्यपाल फागू चौहान ने राजभवन में शपथ दिलावाई है. उन्हें यह जिम्मेदारी 17वीं विधानसभा के पहले सत्र के लिए यह दी गई है. इस प्रक्रिया को पूरी होने के बाद वह 23 और 24 नवंबर को नवनिर्वाचित शेष विधायकों को विधानसभा के लिए शपथ दिलवाई जाएगी.
प्रोटेम स्पीकर के पद की शपथ लेते पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी.

पटना. गुरूवार को प्रदेश में सरकार गठन के बाद अब विधानसभा प्रोटेम स्पीकर के पद पर पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने शपथ ली है. उन्हें यह शपथ सूबे के राज्यपाल फागू चौहान राजभवन में दिलाई है. उन्हें यह जिम्मेदारी 17वीं विधानसभा के पहले सत्र के लिए यह दी गई है. इस प्रक्रिया को पूरी होने के बाद वह 23 और 24 नवंबर को नवनिर्वाचित शेष विधायकों को विधानसभा के लिए शपथ दिलवाई जाएगी.

विधानसभा के स्थायी अध्यक्ष के चुनाव होने तक वे इस पद पर बने रहेंगे. बता दें कि इसके लिए 25 नवंबर को चुनाव होना है. वहीं, 16 नवंबर को राज्य के मुख्यमंत्री की शपथ 7वीं बार नीतीश कुमार ने ली थी. इसके साथ ही अन्य मंत्रियों के विभागों का भी आवंटन कर दिया था. जिसमें खुद नीतीश ने अपने पास गृह, सामान्य प्रशासन, मंत्रिंडल सचिवालय और विजिलेंस विभाग रखा था.

नीतीश सरकार के 93 फीसदी मंत्री करोड़पति, 43% पर क्रिमिनल केस हैं दर्ज

वहीं, डिप्टी सीएम तारकेश्वर प्रसाद को वित्त, कॉमर्शियल टैक्स, पर्यावरण और वन, आपदा प्रबंधन और शहरी विकास मिले. इनके अलावा दूसरी डिप्टी सीएम रेणुका देवी को पंचायती राज, पिछड़ा जाति का उत्थान, उद्दोग और ईबीसी कल्याण मंत्रालय का पदभार सौंपा गया. इनके अलावा मंगल पांडे को पथ निर्माण विभाग को दिया गया. विजय कुमार चौधरी को ग्रामीण कार्य, संसदीय कार्य, ग्रामीण विकास, जल संसाधन और जनसंपर्क विभाग मिला. इसके साथ ही मेवालाल चौधरी को शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण विभाग से सम्मानित किया गया है. राम सुरत कुमार को विधि, राजस्व और भूमि सुधार विभाग सौंपा गया. इन सभी विधायकों को अपने पद की शपथ लेनी है.

नीतीश सरकार की डिप्टी सीएम रेणु देवी समेत मंत्रियों ने पदभार संभाला, देखें फोटो

इनके साथ ही एनडीए में गठबंधन का हिस्से बने वीआईपी के मुकेश सहनी को पशु और मत्सय संसाधन का जिम्मा दिया गया है. जेडीयू से विधायक बने अशोक चौधरी को भवन निर्माण, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक, विज्ञान और प्रौद्दोगिकी विभाग दिया गया है. वहीं, शीला कुमारी राज्य में परिवहन से जुड़ी समस्या को देखेंगी. जबकि, अमरेंद्र प्रताप सिंह को कृषि, सहकारिता और गन्ना उद्दोग देकर किसानों से जुड़ने और उनकी दिक्कतों का निपटारा करने की जिम्मेदारी मिली है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें