छठ पूजा पर हेल्थ एक्सपर्ट ने कहा- व्रती ज्यादा देर तक पानी में खड़े होने से बचें

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 12:42 PM IST
  • महापर्व छठ पूजा को लेकर बिहार के हेल्थ एक्सपर्ट ने व्रतियों से अपील की है कि वे ज्यादा देर तक पानी में खड़े होने से बचें. अगर संभव हो तो व्रतियों को पूजा बाहर घाट पर ही करना चाहिए.जब सूर्य देव को अर्घ्य देना हो तो वे पानी में उतरें.
तापमान में जारी उत्तार चढ़ाव को लेकर हेल्थ एक्सपर्ट ने व्रतियों से अपील की है कि वे ज्यादा देर तक पानी में खड़े होने से बचें. 

पटना. बिहार में महापर्व छठ पूजा की शुरुआत हो गई है. यह पर्व इस बार कोरोना महामारी के दौरान मनाया जा रहा है. साथ ही इस बार का मौसम भी छठ पूजा का व्रत रखने वाली महिलाओं की परीक्षा ले रहा है. तापमान में जारी उत्तार चढ़ाव व्रतियों के सेहत पर बुरा असर डाल रहा है. जिन व्रतियों का स्वास्थ्य पहले से कमजोर या बीमार हैं उन्हें इस मौके पर खास सावधानी बरतने की आवश्यकता है. हेल्थ एक्सपर्ट ने व्रतियों से अपील की है कि वे ज्यादा देर तक पानी में खड़े होने से बचें.

पिछले 3 दिनों से दिन और रात में 10 से 11 डिग्री का अंतर है. दिन और रात में तापमान में जारी इस अंतर को लेकर हेल्थ एक्सपर्ट ने घाट पर पूजा करने वाली महिलाओं और श्रद्धालुओं को सावधानी बरतने की अपील की है. इस पर्व के दौरान स्वास्थ्य विभाग से जुड़े सीनियर डॉक्टरों ने घाटों पर डुबकी लगाने से बचने की अपील की है.

पटना: महापर्व छठ पूजा का तीसरा दिन, डूबते सूर्य को पहला अर्घ्य आज, जानें मुहूर्त

फिजिशियन डॉ. एन सिंह ने बताया कि बीमार व्रतियों को इस दौरान अपनी दवा नहीं छोड़नी चाहिए. इसका असर उनके स्वास्थ्य पर बुरा पड़ेगा. उन्होंने कहा कि ब्लड प्रेशर, शुगर और हार्ट के मरीजों को तो बिल्कुल भी दवा नहीं छोड़नी चाहिए. साथ ही ज्यादा देर तक उन्हें पानी में नहीं खड़ा रहना चाहिए. अगर संभव हो तो व्रतियों को पूजा बाहर घाट पर ही करना चाहिए. सूर्य देव को अर्घ्य देने के लिए व्रती पानी में उतरें. इसके बाद उन्हें जल्द से जल्द भीगे कपड़ों को बदलने की जरूरत है.

पटना: खरना व्रत पर छठी मैया को लगाया जा रहा दूध से बने रसिया का भोग

उन्होंने बताया कि बदलता हुआ मौसम व्रती महिलाओं के लिए नुकसान पहुंचा सकता हैं क्योंकि वह निर्जला रहती हैं. ऐसे में उन्हें खुद का ख्याल रखने की जरूरत है. व्रतियों को घाट पर बैठते समय यह ध्यान रखने की जरुरत है कि वह जहां बैठ रही हैं, उनका पैर ओस या जमीन पर न रहें. घाट पर व्रतियों को कपड़ा, पॉलीथीन शीट आदि फैला कर ही बैठना चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें