बिहार: मांझी ने ब्राह्मणों पर दिया विवादित बयान, कहा- पंडित खाएंगे नहीं पैसा दो

Haimendra Singh, Last updated: Sun, 19th Dec 2021, 1:37 PM IST
  • सोशल मीडिया पर एक वीडियो पर बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने ब्राह्मणों पर विवादित बयान दिया है. वीडियो के वायरल हो जाने के बाद मांझी ने टि्वटर पर अपनी सफाई दी हैं.
जीतन राम मांझी.( फाइल फोटो)

पटना. इन दिनों बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा(HAM) के अध्यक्ष जीतन राम मांझी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें मांझी ब्राह्मणों को अपशब्द और सत्यनारायण भगवान की पूजा पर सवाल उठाते हुए नजर आ रहा है. वीडियों के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर मांझी का विरोध शुरू हो गया है. वायरल वीडियो को पटना के भुइया मिलन समारोह का बताया जा रहा है. हिन्दुस्तान स्मार्ट इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.

वायरल वीडियो में देखा जा रहा है कि जीतन राम मांक्षी किसी कार्यक्रम में कहते हुए नजर आ रहे है कि “माफ कीजिएगा, लेकिन आजकल गरीब तबके के लोगों में धर्म के प्रति लगाव होता जा रहा है. पहले हमलोग सत्यनारायण भगवान पूजा का नाम नहीं जानते थे. आज हर जगह हमलोगों के टोला में सत्यनारायण भगवान की पूजा होता है. और इतना भी शर्म लाज नहीं लगता हमको कि…. इसके बाद वीडियो में जो बोला गया है उससे यहां लिखना संभव नहीं है. वीडियो के अंत में भगवान सत्यनारायण की कथा और ब्राह्मणों के प्रति आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया गया है.

CM नीतीश का 5 लाख गन्ना किसानों को तोहफा, इस निर्णय से बढ़ेगी आमदनी

वीडियो वायरल होने के बाद जीतन राम मांक्षी ने टि्वटर पर लिखा है कि "ब्राम्हण भाईयों को लेकर मेरे विडियो के उतने ही अंश को वॉयरल किया जा रहा है जिससे विवाद उत्पन्न हो,जिसे सत्यता जानने के लिए पूरा सुनने की आवश्यकता है. मेरे दिल में समाज के हर तबके के लिए उतनी ही इज्जत है जितना मैं अपने परिवार के लिए करता हूं."

कुछ दिनों पहले मांक्षी ने शराबबंदी को लेकर बयान दिया था कि मेडिकल सांइस भी यही मानता है कि थोड़ी मात्रा में शराब का सेवन करना लाभदायक साबित होता है. यह भी कहा कि डीएम-एसपी से लेकर विधायक और मंत्री तक शराब पीते हैं, उन्हें तो कोई गिरफ्तार नहीं करता है. जीतन राम मांझी ने कहा कि बिहार में बड़े-बड़े अफसरों के साथ-साथ एमपी-एमएलए रात 10 बजे के बाद शराब का सेवन करते हैं. शराबबंदी कानून की आड़ में गरीबों और दलितों को पकड़कर जेल में डाला जा रहा है. आधा बोतल और एक बोतल शराब का सेवन करने पर जेल भेजा जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें