अगर अफसर कर रहे मनमानी तो इस तरह CM नीतीश तक पहुंचाए अपनी फरियाद

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 20th Dec 2021, 12:37 PM IST
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार के दिन जनता दरबार में लोगों की समस्याओं को सुनते हैं. अगर आप अफसरों की लापरवाही की वजह से सीएम तक अपनी फरियाद नहीं पहुंचा पा रहे हैं तो जनता दरबार के ऑनलाइन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार के दिन जनता दरबार में लोगों की समस्याओं को सुनते हैं.

पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार के दिन जनता दरबार में लोगों की समस्याओं को सुनते हैं. आज महीने के तीसरे सोमवार को दरबार में मुख्यमंत्री तय दो दर्जन से अधिक विभागों से जुड़ी समस्याओं को सुन रहे हैं. दरअसल, सुदूरवर्ती जिलों से जनता दरबार में आने के लिए संबंधित जिले के जिलाधिकारी सारा इंतजाम करते हैं. ऐसे लोगों को रात के वक्‍त ठहरने के साथ पटना तक पहुंचाने की जिम्मेदारी जिलाधिकारी की होती है. लेकिन कई दफा अफसरों की लापरवाही की वजह से फरियादी मुख्यमंत्री तक नहीं पहुंच पाते हैं.

अगर आप अफसरों के माध्यम से मुख्यमंत्री के जनता दरबार में शामिल नहीं हो पाते हैं तो ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर जनता दरबार में पहुंच सकते हैं. दरअसल, इसके लिए आपके पास आधार नंबर और मोबाइल नंबर होना जरूरी है. साथ ही एक ईमेल आइडी भी होना चाहिए. इसके बाद आप https://jkdmm.bih.nic.in/Jantadarbar/Default.aspx लिंक पर क्लिक करें. इस तरह आप जरूरी जानकारी भरने के बाद ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. वहीं मौजूदा वक्त में कोविड गाइडलाइन को देखते हुए मुख्‍यमंत्री एक सोमवार को 100 से 150 लोगों की ही शिकायत सुनते हैं.

ब्राह्मणों पर विवादित बयान पर पूर्व CM मांझी ने मांगी माफी, कहा- गलतफहमी हुई

आंकड़े बताते हैं कि जनता दरबार के वेब पोर्टल पर 27594 आवेदन लंबित हैं. जिसमें 10276 आवेदन अगले माह के पहले सोमवार, 8819 दूसरे और 8499 आवेदन तीसरे सोमवार के लिए हैं. गौरतलब है कि बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार अलग-अलग सोमवार को अलग-अलग विभाग से जुड़ी शिकायतों को सुनते हैं. इस बीच कोरोना गाइडलाइन के मद्देनजर मुख्‍यमंत्री एक सोमवार को 100 से 150 लोगों की ही शिकायत सुनते हैं. बताते चलें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार के दिन जनता दरबार में लोगों की समस्याओं को सुनते हैं. आज महीने के तीसरे सोमवार को दरबार में मुख्यमंत्री तय दो दर्जन से अधिक विभागों से जुड़ी समस्याओं को सुन रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें