झारखंड से गाड़ी रजिस्टर है तो हो जाएं सावधान, बिहार में हो सकती है कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: 11/12/2020 08:00 AM IST
बिहार में अब झारखंड राज्य के रजिस्ट्रेशन नंबर वाली गाड़ी स्थायी तौर पर चलाने पर कड़ी कार्रवाई होगी. इसका प्रावधान परिवहन विभाग ने जारी कर दिया है. इसके अलावा वाहन मालिक को जुर्माना भी देना होगा. 
बिहार में अब झारखंड नंबर वाले वाहनों पर लगेगा जुर्माना.

पटना: बिहार में अब परिवहन विभाग ने नया निगम लागू करते हुए कहा कि झारखंड रजिस्टर्ड गाड़ियों को कोई अब स्थायी तौर पर नहीं रख सकता है. जिसके तहत अब वाहन मालिकों पर कार्रवाई और जुर्माना लगाने का प्रावधान रखा गया है. वहीं, इस संबंध में परिवहन विभाग ने प्रत्येक जिले के डीटीओ (जिला ट्रांसपोर्ट ऑफिस) को निर्देश भी जारी कर दिया. इसके अलावा राज्य भर में नियम ना पालन करने वालों पर कार्रवाई करने के लिए एक विशेष अभियान चलाने का प्रावधान किया जाएगा.

आपको बता दें कि दूसरे राज्य की गाड़ी एक जगह पर 24 घंटे से ज्यादा नहीं रह सकती है. इसके तहत झारखंड की गाड़ी बिहार से तो गुजर सकती है. लेकिन, इसे स्थायी तौर पर उपयोग में लाया जाता है तो कार्रवाई के साथ जुर्माना भी झेलना पड़ सकता है.

वहीं, इस मामले में विभागीय योजनाओं की समीक्षा बैठक कर परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने कहा कि कई दिनों से उन्हें शिकायतें मिल रही हैं. जिसमें अच्छी खासी संख्या में लोग झारखंड से वाहन खरीद कर, उसी राज्य के रजिस्ट्रेशन पर बिहार में स्थायी तौर पर गाड़ी चला रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि अगर झारखंड की रजिस्टर्ड गाड़ी बिहार में स्थायी तौर पर दिखी तो वाहन मालिक पर कार्रवाई की जाएगी. इसके अतिरिक्त यदि किसी वाहन के रजिस्ट्रेशन, ड्राइविंग लाइसेंस और दूसरी सुविधाओं के लटकता है तो उससे जुड़े पदाधिकारी और कर्मी पर कार्रवाई की जाएगी.

दिल्ली पटना, यूपी बिहार का हाइवे सफर आसान, NHAI का नया कोईलवर पुल चालू

इसके साथी ही सचिव ने बताया कि बिहार में प्रदूषण जांच केंद्रों की संख्या में भी चार गुना बढ़ोतरी की जा चुकी है. उन्होंने कहा, अगले वर्ष तक 1000 नए वाहन प्रदूषण कैंद्र खोले जाएंगे. वहीं, प्रदेशवासी यह केंद्र खोल सके इसके लिए बिहार मोटर नियमावली, 1992 में संशोधन किया जाना है. केेंद्र को खोलने के लिए व्यक्ति को न्यूनतम योग्यता इंटर (साइंस) होना ही चाहिए. जिसका लाइसेंस जिला परिवहन अधिकारी देंगे. 

बिहार विधानसभा चुनाव 50 फ़ीसदी से भी कम वोट पाकर 205 बने विधायक

इसी कड़ी में प्रदूषण जांच केंद्र रजिस्ट्रेशन के पहली बार में लाइसेंस प्राप्त कराने के लिए 5 हजार, जांच केंद्र के नवीकरण के लिए पांच हजार और केंद्र की दोबारा लाइसेंस प्राप्त करने के लिए एक हजार जमा कराने होंगे.

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर रखा जाएगा कोईलवर पुल का नाम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें