नीतीश सरकार का गेस्ट टीचरों को तोहफा, अब हर क्लास के मिलेंगे इतने रुपए

Smart News Team, Last updated: 07/04/2021 12:39 AM IST
  • बिहार के सभी विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में गेस्ट टीचरों को अब प्रति कक्षा 1500 रुपये मिलेंगे. इसके साथ ही इन्हें एक महीने में अधिकतम 50 हजार रुपये तक का भुगतान किया जाएगा. मंगलवार को हुई राज्य कैबिनेट की बैठक में मानदेय बढ़ाने के इस फैसले को स्वीकृति दी गई.
नीतीश सरकार का गेस्ट टीचरों को तोहफा, अब हर क्लास के मिलेंगे इतने रुपए

पटना. नीतीश सरकार ने बिहार के सभी विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों के गेस्ट टीचरों व अंशकालिक शिक्षकों की प्रति कक्षा की आय में बढ़ोत्तरी की है. अब इन शिक्षकों को प्रत्येक कक्षा के लिए 1500 रुपये मिलेंगे. इससे पहले इन्हें प्रति कक्षा एक हजार रुपये ही मिलते थे. जिससे इन शिक्षकों को महीने में अधिकतम 25 हजार रुपये ही मिल पाते थे. लेकिन अब इन्हें अधिकतम 50 हजार रुपये तक का एक महीने का अधिकतम भुगतान किया जाएगा. मंगलवार को हुई राज्य कैबिनेट की बैठक में मानदेय बढ़ाने के इस प्रस्ताव को स्वीकृति दी गई.

सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई इस बैठक में कुल आठ प्रस्तावों को स्वीकृति प्रदान की गई. जिसमें गेस्ट टीचरों की प्रति कक्षा आय बढ़ाने के प्रस्ताव को भी स्वीकृति मिली. इन गेस्ट टीचरों का चयन यूनिवर्सिटी में कुलपति की अध्यक्षता में गठित कमेटी 11 महीनों के लिए करती है. इनके कार्य के आधार पर ही इनकी सेवा की अवधि को फिर से 11 महीनों के लिए बढ़ाया जाएगा. इसके अलावा बैठक के अन्य फैसलों में एक विधि पदाधिकारी सहित 29 पदों की बिहार तकनीकी सेवा आयोग में सृजन की स्वीकृति दी गई है.

चिराग को बड़ा झटका, LJP के इकलौते विधायक CM नीतीश की JDU में शामिल

इस बैठक में निदेशक अभियोजन के पद पर नियुक्ति की पात्रता में संशोधन की स्वीकृति भी प्रदान की गई है. इसके साथ ही प्रदेश के सभी शहरों में वृद्धजन आश्रय स्थल गृह के संचालन की स्वीकृति भी दी गई है. इसके अलावा जिला मुख्यालय में वरिष्ठ नागरिकों के आश्रय के लिए 50-50 यूनिट के 100 बेड के साथ ही सभी अनुमंडलों में 50 बेड का संचालन किया जाएगा. इसके लिए वार्षिक रूप से एक करोड़ पांच लाख की स्वीकृति दी गई है.

बिहार में शादी और श्राद्ध में लोगों की लिमिट तय, कोरोना को लेकर CM के सख्त निर्देश

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें