बिहार में सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन, खरीद-बिक्री पर जेल की सजा

Smart News Team, Last updated: Wed, 15th Dec 2021, 3:51 PM IST
  • बिहार सरकार ने मंगलवार की मध्यरात्रि से एक झटके में थर्मोकोल के साथ-साथ उपयोग प्लास्टिक को पूरी तरह से बैन कर दिया है. अब प्लास्टिक और थर्माकोल की खरीद-बिक्री भी नहीं कर सकेंगे, यदि किसी ने इसका उपयोग किया तो उसे एक लाख रुपए का जुर्माना और पांच साल तक की सजा हो सकती है. 
सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल पर बिहार में लगी रोक (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना. बिहार में मंगलवार की मध्यरात्रि से थर्मोकोल के साथ एक उपयोग प्लास्टिक पर पूरी तरह प्रतिबंध लग गया. इसके विनर्माण, आयात, भंडारण, परिवहन, वितरण, विक्रय एवं उपयोग अब दंडनीय अपराध की श्रेणी में आ चुका है. अब इसकी खरीद-बिक्री नहीं कर सकेंगे यदि किसी ने इसका उपयोग किया तो उसे एक लाख रुपए का जुर्माना और पांच साल तक की सजा हो सकती है.

नियमों का उल्लंघन पर जुर्माना

अगर इन नियमों का उल्लंघन करते हुए कोई व्यक्ति पाया जाता है तो उसके खिलाफ पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा 15 के तहत अधिकतम पांच वर्षों के कारावास के साथ अधिकतम एक लाख रुपया जुर्माना अथवा दोनों सजाओं का प्रावधान है. एकल उपयोग प्लास्टिक के अंतर्गत प्लास्टिक की वैसी चीजें आती हैं, जिन्हें हम एक बार इस्तेमाल के बाद फेंक देते हैं.

बिहार में अब ADG और IG रैंक के अफसर नहीं दिखेंगे फील्ड में, शराबबंदी की मॉनिटरिंग करेंगे

इन सामग्री पर लगा प्रतिबंध

प्लास्टिक कप, प्लेट, ग्लास, कटोरी, कांटा, चम्मच, स्ट्रॉ, घोटन, थर्मोकोल के कप, प्लेट, ग्लास, कटोरी, प्लास्टिक बैनर एवं ध्वज-पट्ट, प्लास्टिक झंडा, झाड़-फानूस एवं सजावट की सामाग्री, प्लास्टिक परत वाले कागज के प्लेट, कप, पानी के पाउच एवं पैकेट्स।

मस्वास्थ्य के लिए हानिकारक

मालूम हो कि, एकल उपयोग प्लास्टिक और थर्मोकोल जैव विघटीय नहीं है. इनको जलाने से विषाक्त गैसों का उत्सर्जन होता है. यह मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है. ये नालियों के बहाव को अवरुद्ध करता है. जमीन की उर्वरा शक्ति को कमजोर बनाता है. खाद्य पदार्थ के साथ इसे खाकर जानवर जान तक गंवा बैठते हैं. इन्हीं हालातों को देखते हुए बिहार सरकार ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें