बिहार को पिछले 6 महीने में मिला 34 हजार करोड़ का निवेश प्रस्ताव, देश के कई राज्यों को पीछे छोड़ा

Smart News Team, Last updated: Sun, 4th Jul 2021, 3:22 PM IST
  • कोरोना महामारी के काल में बिहार सबसे ज्यादा निवेश प्रस्ताव पाने वाला राज्य बन गया है. बीते छह महीने में राज्य में 34 हजार करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हो चुके हैं, जिसमें 19304 करोड़ के निवेश प्रस्तावों को राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद ने मंजूरी दे दी है.
बीते छह महीने में बिहार में 34 हजार करोड़ से अधिक के निवेश का प्रस्ताव आया है. ( सांकेतिक फोटो )

बिहार: कोरोना महामारी के बाद बिहार में लोगों के लिए एक अच्छी खबर आई है. कोविड का प्रकोप कम होने के बाद उद्योग जगत में फिर से हलचल शुरू हो गई है. बीते छह माह में बिहार में सबसे ज्यादा निवेश के प्रस्ताव प्राप्त हुए है. बीते छह माह में राज्य में 34 हजार करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हो चुके हैं. निवेशक का रूख देखकर राज्य में औद्योगिकीकरण की उम्मीद जगी है. इनमें से 19304 करोड़ के निवेश प्रस्तावों को राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद ने मंजूरी दे दी है. 15145 करोड़ के निवेश का प्रस्ताव 28 से 30 जून के बीच सिर्फ तीन दिन में आया है.

बिहार में निवेशकों का सकारात्मक रुख देखकर राज्य में व्यापार बढ़ोत्तरी की उम्मीद बंधी है. जानकारी के अनुसार बीते तीन से चार महीने में तो राज्य में नए निवेश प्रस्तावों में खासी तेजी आई है. एसआईपीबी से स्टेज-1 की स्वीकृति पाने वाले निवेश प्रस्तावों की संख्या और धनराशि इसकी पुष्टि करती है. एक जुलाई को हुए एसआईपीबी की 30वीं बैठक में 12744.59 करोड़ के निवेश प्रस्तावों को हरी झंडी दी गई. उद्योग विभाग को अब तक मिले प्रस्तावों को देखें तो राज्य के पांच जिले में 2000 करोड़ के करीब या उससे अधिक के निवेश प्रस्ताव आए हैं.

CM नीतीश दोबारा शुरू करेंगे जनता दरबार, इस दिन करेंगे शिकायतों का समाधान

अंतिम तीन दिनों में उद्योग विभाग को 15145 करोड़ के 87 निवेश प्रस्ताव मिले है. उनमें से 79 सिर्फ इथेनॉल से जुड़े थे, जिसमें संभावित निवेश 14922 करोड़ से अधिक है. एसआईपीबी की 31वीं बैठक में इन प्रस्तावों को भी स्टेज-1 की मंजूरी मिलने की उम्मीद है. विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, राज्य के करीब 10 जिलों में एक हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव मिले हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें