पटना: जूनियर डॉक्टरों से नहीं मिले PMCH प्रधान सचिव, कल भी जारी रहेगी हड़ताल

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Dec 2020, 8:01 PM IST
पीएमसीएच में जूनियर डॉक्टरों ने गुरुवार को करीब 3 घंटे काम बंद करा दिया था. जिसके बाद पहुंची पुलिस ने फिर से खुलवाकर सारी प्रक्रिया शूरू करा दी. वहीं, अस्पताल में पहुंचे प्रधान सचिव ने भी जूनयिर डॉक्टरों से कोई बात नहीं की. इसीलिए अब कल भी स्ट्राइक जारी रहेगी.
बिहार के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर

पटना: प्रदेश भर में जूनियर डॉक्टरों ने बीते बुधवार से हड़ताल पर हैं, जिससे राज्य की स्वास्थ्य सेवा ठप पड़ती जा रही है. वहीं, गुरुवार को प्रधान सचिव पीएमसीएच पहुंचे, लेकिन उन्होंने भी जूनियर डॉक्टरों से कोई बात नहीं की. जिसके कारण अब स्ट्राइक कल भी जारी रहेगा. बता दें कि अब तक छह ऑपरेशन टाले जा चुके हैं. 

यह ऑपरेशन सर्जरी वार्ड, बर्न वार्ड, हड्डी रोग विभाग आदि में किए जाने थे. हड़ताल के दो दिन बीत जाने पर ओपीडी और अन्य दूसरे वार्डों की संख्या में कमी आ गई है, जिसके कारण आज मरीज उचित मात्रा में नहीं आएं.

आपको बता दें कि पीएमसीएच में सुबह 8:30 से 11:00 तक जूनियर डॉक्टरों ने रजिस्ट्रेशन काउंटर बंद करा दिया था. जानकारी मिलते ही पुलिस पुहंची और रजिस्ट्रेशन काउंटर खुलवाया गया. खुलने के साथ ही डॉक्टरों के काम के घंटे बढ़ाएं गए और आए मरीजों का उचित इलाज करवाया गया. लेकिन, जूनियर डॉक्टरों के हड़ताल जाने पर दूसरे दिन भी स्वास्थ्य सेवा काफी प्रभावित रही.

पटना: राज्य के सभी जूनियर डॉक्टर्स आज से हड़ताल पर AIIMS और IGIMS खुलेगा

जूनियर डॉक्टरों की एक सूत्रीय एक सूत्री मांग स्टाइपेंड में बढ़ोतरी करने की थी. सभी जूनियर डॉक्टर 23 दिसंबर को सुबह 7:00 बजे से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए थे. जूनियर डॉक्टर्स एसोसिऐशन (जेडीए) ने मंगलवार को ही इसका ऐलान कर दिया था. जेडीए के मुताबिक, उन्होंने अपनी तरफ से मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल और अधीक्षक को जानकारी दे दी है. जेडीए की मानें तो साल 2017 से बिहार में जूनियर डॉक्टरों का स्टाइपेंड रिवाइज नहीं किया गया था. इसी कारण जूनियर डॉक्टरों का आक्रोश इन दिनों देखने को मिल रहा है.

नए साल में पटना के पार्कों में घूमना होगा महंगा, प्रवेश के देने होंगे इतने रुपए

बिहार शिक्षा गाइडलाइन: क्लास 9 से 12 तक स्कूल खुलेंगे, कॉलेज में लास्ट ईयर पढ़ाई

सृजन घोटाले में कई बैंक अधिकारियों के खिलाफ FIR, 99 करोड़ की अवैध निकासी का आरोप

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें