बढ़ती सर्दी देखते हुए बिहार बोर्ड का आदेश, जूते-मोजे पहनकर एग्जाम दे सकेंगे छात्र

Smart News Team, Last updated: Sun, 31st Jan 2021, 12:26 AM IST
  • लेकीन जैसे ही हिन्दुस्तान ने सरकारी आदेश की ये खबर छापी, प्रशासन की आंख खुली फिर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने मामले का संज्ञान लिया और अगले ही दिन अपने अदेश को वापस लेते हुए. एक नया आदेश जारी किया जिसमें परीक्षार्थीयों को जूता और मोजा पहनकर आने की अनुमति दी गई है.
बढ़ती सर्दी देखते हुए बिहार बोर्ड का आदेश, जूते-मोजे पहनकर एग्जाम दे सकेंगे छात्र

पटना: बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा द्वारा जारी दिशानिर्देश के अनुसार परीक्षा कक्ष में नकल रोकने के लिए परीक्षार्थीयों को परीक्षा कक्ष में जूता या मोजा पहनकर जाने की मनाही थी. लेकीन जैसे ही हिन्दुस्तान ने सरकारी आदेश की ये खबर छापी, प्रशासन की आंख खुली फिर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने मामले का संज्ञान लिया और अगले ही दिन अपने अदेश को वापस लेते हुए. एक नया आदेश जारी किया जिसमें परीक्षार्थीयों को जूता और मोजा पहनकर आने की अनुमति दी गई है.

हिंदुस्तान खबर का असर

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि, बिहार विद्यालय परीक्षा समिति राज्य में वर्तमान में जारी शीतलहर के कारण छात्र हित को ध्यान में रखते हुए अपवादस्वरूप इस वर्ष दिनांक 1 फरवरी 2021 से 13 फरवरी 2021 तक आयोजित की जाने वाली इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 2021 में परीक्षार्थियों को जूता मोजा पहन कर परीक्षा भवन में प्रवेश करने की अनुमति प्रदान की गई है. अंततः इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 2021 में सम्मिलित होने वाले परीक्षार्थी जूता मोजा पहन कर परीक्षा केंद्र में प्रवेश कर सकते हैं.

फेसबुक पोस्ट के कारण डेढ़ साल बाद बिछड़े परिवार से मिला महीनावा गांव का सूरज

गौरतलब है कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा इंटरमीडिएट परीक्षा 2021, 1 फरवरी 2021 से 13 फरवरी 2021 तक आयोजित की है. जिसमें कुल 13, 50,233 विद्यार्थियों ने परीक्षा फॉर्म भरा है. जिसमें से 6,46,5 40 छात्राएं एवं 7,03, 693 छात्र हैं. इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 2021 के लिए पटना में कुल 85 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, जिसमें सम्मिलित होने के लिए 39,093 छात्राएं एवं 41,789 छात्रों अर्थात कुल 80882 विद्यार्थियों ने परीक्षा फॉर्म भरा है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें