अब तक सबसे ज्यादा 15 बार CM रहते झंडा फहरा चुके हैं नीतीश कुमार: संजय झा

Smart News Team, Last updated: Sun, 15th Aug 2021, 5:52 PM IST
  • बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने ऐतिहासिक गांधी मैदान स्थित कारगिल चौक पर आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर तिरंगा झंडा फहराया. CM नीतीश के ध्वजारोहण को लेकर बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने ट्वीट कर कहा सीएम नीतीश ने 15वीं बार सीएम के रूप में झंडोत्तोलन किया है, इसके साथ कई ट्वीट भी किए हैं.
CM नीतीश कुमार ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सबसे अधिक बार किया झंडोत्तोलन- संजय कुमार झा

पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पहले अपने सरकारी आवास पर तिरंगा फहरया. इसके बाद सीएम नीतीश ने ऐतिहासिक गांधी मैदान स्थित कारगिल चौक पर आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर ध्वजारोहण किया. सीएम नीतीश के तिरंगा झंडा फहराने को लेकर बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा ने 15 ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उपलब्धि बताई हैं. संजय झा ने सबसे पहले ट्वीट करते हुए लिखा- न्याय के साथ विकास की संकल्पना पर अडिग निश्चय के साथ अथक प्रयास कर बिहार की तस्वीर व तकदीर बदलने वाले माननीय नीतीश कुमार को बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सबसे अधिक बार झंडोत्तोलन का गौरव प्राप्त हुआ है. बिहार के लिए यह गौरवशाली क्षण है.

मंत्री संजय झा ने आगे ट्वीट करते हुए लिखा- आज 75वें स्वतंत्रता दिवस पर नीतीश कुमार बतौर मुख्यमंत्री 15वीं बार झंडोत्तोलन कर रहे हैं. सेवा, समर्पण, निश्चय, साहस, धैर्य जैसे गुणों के प्रतीक नीतीश कुमार की बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में सबसे लंबे समय तक जनता की सेवा करने वाली यह यात्रा ऐतिहासिक है.

स्वतंत्रता दिवस पर जानें तिरंगा का इतिहास, क्यों है आजादी के जश्न का आकर्षण

विपक्ष पर हमला बोलते हुए संजय झा ने लिखा- 2005 से पहले के 15 साल के कुशासन काल को याद कर आज भी बिहार के लोगों की रूह कांप उठती है. लालटेन राज में लूट, भ्रष्टाचार, हत्या, डकैती, अपहरण, माफियाराज, नरसंहार, जातीय हिंसा, भयानक गरीबी, अशिक्षा, सड़कों के नाम पर गड्ढे, बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था बिहार की पहचान बन चुके थे. उस दौर में खुद को बिहारी कहना शर्म का विषय बन चुका था. देश-दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले और आने-जाने वाले बिहारी अपनी पहचान छिपाते थे. उस समय की अहंकारी सत्ता ने अपने कुकृत्यों से बिहारी पहचान को ही अपमानजनक बना डाला था.

स्वतंत्रता दिवस पर CM योगी बोले- PM मोदी के नेतृत्व में 'नए भारत, श्रेष्ठ भारत' की परिकल्पना साकार

इसके साथ ही नीतीश सरकार के विकास कार्यों के बारे में लिखा 2006 से जीविका समूह की शुरुआत हुई. तब से लेकर अब तक 10 लाख 27 हज़ार से अधिक स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से 1 करोड़ 27 लाख से ज्यादा परिवार इसमें जुड़ चुके हैं. पूरे देश के लिए बिहार की जीविका दीदियां, आर्थिक और सामाजिक सशक्तिकरण की रोल मॉडल हैं. सीएम नीतीश द्वारा शुरू की गई साइकिल योजना ने बिहार में सामाजिक क्रांति का सूत्रपात किया है. इसने प्रदेश की बेटियों में आत्मविश्वास जगाया। साइकिल, पोशाक और अन्य प्रोत्साहन योजनाओं के कारण मैट्रिक परीक्षा में छात्राओं की संख्या छात्रों के बराबर हो गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें