भारत सरकार ने हस्तशिल्प राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए बिहार के 6 कलाकारों का किया चयन

Smart News Team, Last updated: Sat, 14th Aug 2021, 3:50 PM IST
  • भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए बिहार के 6 कलाकारों का चयन किया गया है. बिहार के इन 6 कलाकारों को अब हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाने हैं.
हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए बिहार के 6 कलाकारों का चयन फोटो क्रेडिट (प्रतीकात्मक फोटो)

पटना. भारत सरकार हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कारों का बहुत जल्द आयोजन करेगी. इस आयोजन से पहले ही सरकार ने कलाकारों के नाम भी जारी कर दिए हैं. इन कलाकारों का चयन हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए इनकी योग्यता के आधार पर किया गया है. बिहार के 6 कलाकारों का चयन भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए हुआ है. बिहार के इन 6 कलाकारों को बहुत जल्द ही यह पुरस्कार दिए जाएंगे. इस आयोजन से पहले ही वस्त्र मंत्रालय ने 2018 के पुरस्कारों की घोषणा कर दी है.

भारत सरकार ने हस्तशिल्प के राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए बिहार के जिन 6 कालाकारों का चयन किया है इसमें इकराम हुसैन व अभय पंडित को नेशनल अवार्ड दिया जाएगा. इसके साथ ही सेरामिक कलाकार पिंटू प्रसाद, मिथिला पेंटिंग के दिलीप पासवान, सरिता दत्ता व प्रेमलता कुमारी को नेशनल मेरिट अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा. अब देखना ये है कि इन कलाकारों को भारत सरकार द्वारा कब ये पुरस्कार दिया जाएगा.

बिहार के 5 रेलवे स्टेशनों पर दिखेगा हस्तशिल्प का क्रेज, 22 अगस्त तक लगेंगे स्टॉल

आज के समय में हस्तशिल्प के कलात्मक कार्य से काफी लोग जीवन-यापन कर रहे हैं. हस्तशिल्प का काम हाथ से या सरल औजारों की सहायता से किया जाता है. हस्तशिल्प कलाओं का धार्मिक एवं सांस्कृतिक महत्त्व होता है और इसके विपरीत ऐसी चीजें हस्तशिल्प की श्रेणी में नहीं आती जो मशीनों द्वारा बनाई जाती हैं. हस्तशिल्प के कार्यों में मुख्य रुप से कारीगरी, क्राफ्टिंग और दस्तकारी शामिल हैं. शिल्प आंदोलन मुख्य रूप से यूरोप, उत्तरी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में 19 वीं सदी के अंत में डिजाइन सुधार और सामाजिक आंदोलन के रूप में उत्पन्न हुआ था और यह आज भी जारी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें