IIT पटना के छात्र को भारतीय कंपनी ने दिया सालाना 43 लाख का पैकेज

Smart News Team, Last updated: 06/12/2020 04:12 PM IST
आईआईटी पटना के छात्र को भारतीय कंपनी ने 43 लाख का पैकेज दिया है. इसी क्रम में कॉलेज प्लेसमेंट अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 के चलते प्लेसमेंट वर्चुअली हुआ है.
(तस्वीर: आईआईटी पटना)

पटना: आईआईटी पटना में बीटेक के एक छात्र को भारत की ही कंपनी डीई शॉ इंडियन सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड ने सालाना 47 लाख रुपये के पैकेज पर जॉब ऑफर की है. इसी क्रम में पटना इंजीनियरिंग कॉलेज अधिकारियों की ओर से बताया गया कि यह इस वर्ष का सबसे अच्छा पैकेज पर प्लेसमेंट है. जिसके चलते कॉलेज अब तक छात्रों को इसी तरह नौकरी मुहैया करा रहा है. उन्होंने आगे बताया कि अभी महामारी की वजह से प्लेसमेंट वर्चुअली हो रहे हैं.

वहीं, कॉलेज अधिकारी ने बताया कॉलेज के और बीटेक छात्र को 43.50 लाख पर माइक्रोसॉफ्ट में नौकरी मिली है. वो कहते हैं इनके साथ पांच और स्टूडेंट्स को 30 लाख सालाना पर नौकरी मिल चुकी है. वहीं, ट्रैनिंग और प्लेसमेंट अधिकारी कृपा शंकर सिंह ने कहा है कि इस प्लेसमेंट कार्यक्रम के तहत बीटेक के 40 फीसद और कंप्यूटर के 75 प्रतिशत छात्रों को नौकरी मिल गई है. 

ये रैन बसेरा देख होंगे हैरान! टीवी, इन्वर्टर और RO जैसी सुविधाएं, खाना केवल 30 रुपये

साथ ही कॉलेज के 6 छात्रों को इंटर्रनशिप ऑफर हुई है, जबकि एक को गूगल इंडिया में नौकरी मिली है. इनके अतिरिक्त 2 छात्र को जापान की कंपनी में इंटर्रनशिपर करने का मौका मिला है. उन्होंने आगे कहा कि ये सभी छात्र मई-जून, 2021 तक नौकरी जॉइन कर लेंगे.

पटना में RSS की क्षेत्रीय कार्यकारी मंडल की बैठक आज से, मोहन भागवत होंगे शामिल

ट्रैनिंग और प्लेसमेंट सेल प्रोफेसर इंचार्ज जोस वी पारामबिल के अनुसार, जब से कोविड-19 की समस्या उत्पन्न हुई है तभी से कोई भी कंपनी कैंपस में नहीं आई. इसलिए कॉलेज ने पहले से तय समय पर वर्चुअली प्लेसमेंट कराया. इसी क्रम में छात्रों को पहले ऑनलाइन मोड के जरिए लिखित एक्जाम देना होता है, फिर उनके प्लेसमेंट के लिए संबंधित कंपनी के पैनल द्वारा इंटरव्यू लिया जाता है. प्रोफेसर इंचार्ज ने अपनी बातों को विस्तार देते हुए कहा कि पिछले वर्ष आईआईटी पटना के तीन छात्रों को 59 लाख की सालाना सैलरी पर विदेशी कंपनियों ने जॉब दी थी.

गाड़ियों के मनपसंद नंबर लेने की मची होड़, पटना में तेजी से हो रहे रजिस्ट्रेशन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें