Railway news : बिहार के कई स्टेशनों पर वसूला जाएगा यूजर चार्ज, जानिए कितना होगा चार्ज...

Indrajeet kumar, Last updated: Fri, 15th Oct 2021, 2:05 PM IST
  • बिहार के रेलवे स्टेशनों से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए अब किराया और महंगा होने जा रहा है. indian railway ने स्टेशनों के विकास के लिए यात्रियों पर यूजर चार्ज के रूप में अतिरिक्त पैसे वसूलेगी. किन स्टेशनों पर लगेगा यूजर चार्ज जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर.
भारतीय रेलवे (फाइल फोटो)

पटना. बिहार में रेल यात्रियों के लिए अब किराया और महंगा होने जा रहा है. indian railway अब बिहार के कई स्टेशनों को विश्व स्तरीय बनाने के लिए विकसित करने जा रहा है. करोड़ो रूपये की लागत से स्टेशनों को विकसित किया जाएगा. इस योजना के तहत बिहार के बरौनी, बेगूसराय, दरभंगा, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर और राजेंद्र नगर टर्मिनल जैसे स्टेशनों को विकसित किया जाएगा. रेलवे ने ये तय किया है कि स्टेशनों के विकास में खर्च होने वाले पैसे की भरपाई यात्रियों से वसूल के लिए जाएगा. इस वसूली के लिए स्टेशनों से यात्रा शुरू करने वाले या यात्रा खत्म करने वाले यात्रियों से यूजर चार्ज वसूला जाएगा.

रेलवे स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत शामिल स्टेशनों पर यूजर चार्ज अलग-अलग क्लास में अलग-अलग होगा. जनरल क्लास के यात्रियों को कम चार्ज लगाया जाएगा वहीं एसी श्रेणी के यात्रियों को ज्यादा चार्ज चुकाना पड़ेगा. इसके लिए रेलवे ने किराया का एक खाका तैयार कर लिया है. मिली जानकारी के मुताबिक जनरल क्लास के यात्रियों को 10 रुपये वहीं एसी क्लास के यात्रियों के लिए 35 रुपये तक वसूले जाएंगे.

दशहरा बाद वापसी को ट्रेनों में चल रही लंबी वेटिंग, फ्लाइट का किराया भी महंगा

कोविड महामारी के दौरान रेलवे पर भारी आर्थिक दबाव पड़ा है. जिसके वजह से रेलवे ने ऐसा फैसला किया. लंबे समय तक ट्रेनों की आवाजाही बंद रहने के कारण रेलवे को भारी आर्थिक नुकसान हुआ था. रेलवे यूजर चार्ज के रूप में वसूले गए पैसों को दूसरे स्टेशन के विकास पर खर्च करेगा. ऐसे में रेलवे विकास पर खर्च होने वाले पैसे की भरपाई के लिए अलग-अलग उपाय ढूंढ रहा है. बिहार के कई स्टेशनों पर एस्केलेटर और लिफ्ट जैसी सेवाएं शुरू की गई है. इससे रेल यात्रियों को काफी सुविधा मिली है. रेलवे ने आमदनी बढ़ाने के लिए कई एक्सप्रेस ट्रेनों को स्पेशल सुपरफास्ट में बदल दिया है. जिसमें अब पहले के मुकाबले ज्यादा किराया देना पड़ता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें