यात्रियों को दिवाली से पहले मिल सकती है बड़ी राहत, रेलवे घटा सकती है स्‍पेशल ट्रेनों का किराया

Uttam Kumar, Last updated: Sat, 16th Oct 2021, 10:41 AM IST
  • दानापुर रेल मंडल कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत के दौरान रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने इस बात के दिए थे संकेत, दुर्गा पूजा बाद रेलवे यात्रियों को किराये में पहले मिलने वाली छूट को फिर से लागू करने पर विचार कर सकता है.
दिवाली से पहले रेलवे घटा सकती है स्‍पेशल ट्रेनों का किराया. प्रतिकात्मक फोटो

पटना. दीपावली और छठ पर घर आने वालों यात्रियों को रेलवे की तरफ से राहत मिल सकता है. बीते सप्ताह दानापुर रेल मंडल कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत के दौरान रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने इस बात के संकेत दिए थे कि दुर्गा पूजा के बाद रेलवे यात्रियों को किराये में पहले मिलने वाली छूट को फिर से लागू करने पर विचार कर सकता है. अगर रेलवे दुबारा ये सुविधा लागू करती है दीवाली और छठ के अवसर पर बिहार आने वाले यात्रियों को बहुत राहत मिलेगी. 

दरअसल कोरोना महामारी के दौरान ट्रेनो का परिचालन भी बंद कर दिया था. धीरे धीरे स्तिथि के अनुसार परिचालन शुरू किया गया लेकिन अधिकतर ट्रेनो को स्पेसल बनाकर चलाया जा रहा है. पहले चलने वाली सामान्य ट्रेनो की तुलना में स्पेसल ट्रेनो का किराया ज्यादा है. साथ ही रेलवे ने प्‍लेटफार्म टिकट का किराया भी काफी ज्यादा बढ़ा दिया है. रेलवे ने वृद्धजनों सहित अन्‍य वर्गों को रेल किराए में मिलने वाली छूट भी खत्‍म दी है.जिसका असर सीधा यात्रियों की जेब पे पड़ रहा है.

विजयादशमी पर RJD-कांग्रेस ने ट्वीट कर नीतीश-BJP सरकार पर साधा निशाना  

कोरोना संक्रमण का खतरा कम होने के बाद लोग इस इंतजार में हैं कि रेलवे पहले की तरह कम किराए वाली नियमित ट्रेनों का परिचालन शुरू करेगा. बीते सप्ताह दानापुर रेल मंडल कार्यालय में पत्रकारों के साथ ऑनलाइन बातचीत में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने कहा था कि अब रेलवे की गतिविधियां धीरे-धीरे सामान्‍य होने लगी हैं. ज्यादातर ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया है. रेलवे को पर्याप्त मात्रा में यात्री भी मिलने लगे हैं. इसके साथ ही रेलवे माल ढुलाई के जरिए अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है. साथ ही चेयरमैन ने यह संदेश दिया था कि दुर्गापूजा के बाद रेलवे पहले दी जाने वाली छूट पर विचार करेगी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें