दुनिया के 75 देशों तक निर्यात होंगे बिहार के प्रोडक्ट्स, उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने किया दावा

Somya Sri, Last updated: Wed, 22nd Sep 2021, 9:44 AM IST
  • बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने अधिवेशन भवन में वाणिज्य उत्सव का उद्घाटन करते हुए कहा कि बिहार के उत्पादन दुनिया के 75 देशों में निर्यात करने की तैयारी की गई है. उन्होंने बताया कि बिहार से भागलपुरी सिल्क, खादी वस्त्र, मखाना, चावल, सब्जियां आदि को निर्यात किया जा रहा है.
बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने अधिवेशन भवन में वाणिज्य उत्सव का उद्घाटन करते हुए कहा कि बिहार के उत्पादन दुनिया के 75 देशों में निर्यात करने की तैयारी की गई है. उन्होंने बताया कि बिहार से भागलपुरी सिल्क, खादी वस्त्र, मखाना, चावल, सब्जियां आदि को निर्यात किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि पिछले 6 महीने में करीब 35000 करोड़ से अधिक का निवेश प्रस्ताव किया गया है जिनमें से 897 करोड़ की स्वीकृति मिल चुकी है. उन्होंने कहा कि बिहार सरकार निवेश के लिए काफी तेजी से आकर्षित है.

उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार सरकार प्रदेश में निर्यात निगम की कायाकल्प पलटने की तैयारी में हैं. जल्द ही राज्य के सभी जिला उद्योग केंद्रों पर निर्यात निगम का एक कमरा होगा. उन्होंने कहा कि राज्य में सिल्क उद्योग को बढ़ावा देने के लिए इंडियन सिल्क एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (आइएसईपीसी) का क्षेत्रीय कार्यालय खोला जाएगा. इसके लिए वहां पर भवन भी तैयार है. वहां पर अगले दो-तीन माह में क्षेत्रीय कार्यालय काम करना शुरू कर देगा. इससे राज्य के सिल्क उद्योग को बड़ा लाभ होगा. उनका उत्पाद अब सीधे निर्यात होने लगेगा.

NEET में सौलवर गैंग ने की धांधलेबाजी, CBI जांच शुरू, कई छात्रों की उम्मीदवारी होगी रद्द

वहीं केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय के अपर सचिव अमृत लाल मीणा ने कहा कि बिहार निर्यात के क्षेत्र में काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है. यहां से पेट्रोलियम उत्पाद, वस्त्र, मखाना, फल-सब्जी एवं दवाओं का निर्यात किया जा रहा है. पिछले वर्ष लगभग 1200 करोड़ रुपये का निर्यात किया गया है. हालांकि, देश के कुल निर्यात में बिहार का मात्र 0.52 फीसद ही भागीदारी है. इधर आइएसईपीसी के पूर्व चेयरमैन डा. बिमल मावंडिया ने कहा कि बिहार में निर्यात की असीम संभावनाएं हैं. खासकर सिल्क के निर्यात को बढ़ावा देकर बिहार भारी मात्रा में विदेशी मुद्रा अर्जित कर सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें