पटना: अब इंटीग्रेटेड कंट्रोल कमांड सेंटर रखेगा ट्रैफिक और सफाई व्यवस्था पर नजर

Smart News Team, Last updated: 20/09/2020 10:16 PM IST
  • पटना में ट्रैफिक और कूड़े के प्रबंधन के लिए अब जिला प्रशासन कमर कस चुका है. इसके लिए इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर बनाया जाएगा. ट्रैफिक तोड़ने वालों के घर चलान भेजने के साथ ही कूड़ा उठाने के लिए घरों में क्यूआर कोड लगाने की भी तैयारी है.
ट्रैफिक पुलिस चलान काटते हुए

पटना: राजधानी में ट्रैफिक और सफाई व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन ने अनोखी पहल की है. अब शहर की ट्रैफिक, सुरक्षा और कूड़ा उठाव की मॉनिटरिंग एक जगह से हो सकेगी. यह सब इंटीग्रेटेड कंट्रोल कमांड सेंटर से हो सकेगा. इसकी मदद से शहर में ट्रैफिक तोड़ने वालों का चालान सीधे उनके घरों पर चला जाएगा. 

जानकारी के मुताबिक अब शहर के प्रत्येक छोटे-बड़े हिस्से सीसीटीवी कैमरों से लैस होंगे. इसके साथ ही घरों से कूड़-कचरा भी समय पर उठेगा और इसकी रियल टाइम मॉनिटरिंग की जाएगी. इंटीग्रेटेड कंट्रोल कमांड सेंटर के तहत ही इंटेलीजेंट सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट होगा. इस परियोजना के तहत सभी साढ़े तीन लाख घरों पर क्यूआर कोड लगाए जाएंगे.कूड़ा उठाने वाले वाहन के मजदूर क्यूआर कोड को स्कैन करेंगे, तब कंट्रोल रूम में पता चल जाएगा कि किस घर से कूड़ा उठ चुका है यानी स्कैन करते हुए डाटा सेंटर में वीडियो वाल पर लाल से हरा रंग हो जाएगा. इसका मतलब सुबह छह बजे वीडियो वाल लाल रंग दिखाएगा यानी कूड़ा उठना शुरू नहीं हुआ है जैसे ही हर एक घर से कूड़ा उठना शुरू होगा, वीडियो वाल पर लाल रंग हरा होने लगेगा. यही नही मोबाइल एप के जरिए लोग निगम की गाड़ियाें की जानकरी रखने के साथ ही कर्मचारियों की शिकायत कर सकेंगे.

तेजस्वी यादव का CM पर निशाना, कहा-सुशासन को चढ़ावे के बिना जनता का नहीं होता काम

जल्द ही गांधी मैदान के पास एसएसपी कार्यालय परिसर में पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड की इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के लिए भवन का निर्माण शुरू होगा. इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के भवन का पहला, दूसरा एवं तीसरा फ्लोर सर्वर रूम, वीडियो वॉल, संबंधित उपकरण एवं ऑपरेटर वर्क-स्टेशन से लैस होगा. जहां से पुलिस कर्मचारी,अधिकारी एवं विभिन्न शहरी उपयोगिताओं का प्रबंधन एवं निगरानी होगी. इसके साथ ही इस चार फ्लोर के भवन के टॉप फ्लोर पर स्मार्ट सिटी का दफ्तर भी शिफ्ट किया जाएगा. करीब 13 करोड़ 16 लाख रुपये की लागत से 12 माह के भीतर भवन निर्माण का लक्ष्य निर्धारित है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें