जातीय जनगणना पर JDU नेता उपेंद्र कुशवाहा का कांग्रेस पर हमला, कहा- दूध के धुले नहीं

Smart News Team, Last updated: Thu, 26th Aug 2021, 12:36 PM IST
  • जातीय जनगणना के मुद्दे पर जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कांग्रेस पर हमला बोला है. जदयू नेता ने कहा कि कांग्रेस ने कोई बेहतर काम नहीं किया है और कांग्रेस दूध की धुली भी नहीं है.
जातीय जनगणना पर बोले उपेंन्द्र कुशवाहा, (फाइल फोटो)

पटना. जातीय जनगणना को लेकर जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा का बयान आया है. जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने जातीय जनगणना को लेकर कहा है कि जातीय जनगणना से काफी फायदा होगा और जातीय जनगणना नहीं हुआ तो इससे नुकसान होगा. इसके साथ ही उपेंद्र कुशवाहा ने जातीय जनगणना के बारे में बात करते हुए कांग्रेस पर हमला बोला. जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जातीय जनगणना को लेकर कांग्रेस ने कोई बेहतर काम नहीं किया है और कांग्रेस दूध की धुली भी नहीं है. वहीं पत्रकारों से इस मुद्दे पर आगे बोलते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मुलाकात हो गई है. अब देखने ये है कि पीएम मोदी जातीय जनगणना के मुद्दे पर क्या निर्णय लेते हैं.

जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने भले ही कांग्रेस पर हमला बोला हो लेकिन कांग्रेस पार्टी भी जातीय जनगणना कराने की मांग का समर्थन कर रही है. इसके साथ ही बिहार के सभी विपक्षी दल भी जातीय जनगणना की मांग को लेकर केंद्र सरकार को घेर रहे हैं. हाल ही में सीएम नीतीश के साथ 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली में पीएम मोदी से मुलाकात की थी. इस मुलाकात में कांग्रेस की तरफ से अजीत शर्मा इस प्रतिनिधि मंडल में थे.

केंद्रीय मंत्री गिरिराज बोले- जनगणना समाज हित के लिए हो ,राजनीतिक हित में नहीं

जातीय जनगणना की मांग को लेकर बिहार में यह मुद्दा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने उठाया था. इसके बाद धीरे-धीरे सभी पार्टी राजद द्वारा उठाए गए इस मुद्दे में शामिल हो गईं. इतना ही नहीं प्रदेश के सीएम नीतीश भी जातीय जनगणना को लेकर इन सभी विपक्षी दलों के साथ हैं हालांकि अभी बीजेपी की तरफ से इस मामले में कोई स्पष्ट राय सामने नहीं आई हैं. हालांकि बिहार की उप-मुख्यमंत्री और भाजपा नेता रेणु देवी ने कहा है जिस तरह कर्नाटक और ओडिशा में जातीय जनगणना कराई गई उसी तरह बिहार भी इसके लिए स्वतंत्र है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें