पार्टी विचार बांटने को उर्दू, मैथिली, भोजपुरी में आएगा JDU मुखपत्र 'जदयू संधान'

Smart News Team, Last updated: Tue, 26th Jan 2021, 9:47 AM IST
  • जेदयू की विचारधारा लोगों तक पहुंचाने के लिए पार्टी ने 'जदयू संधान' मुखपत्र की शुरूआत की है. सोमवार को पार्टी कार्यालय में इसका लोकार्पण किया गया. प्रारम्भ में यह हिन्दी और अग्रेजी भाषा में उपलब्ध होगी. बाद में इसे उर्दू, मैथिली और भोजपुरी भाषा में भी प्रकाशित किया जाएगा.
जेदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह.

पटना: बिहार में अपनी विचारधारा को लोगों तक पहुंचाने के लिए जेडीयू ने ‘जदयू संधान’ नाम से मासिक मुखपत्र प्रकाशित किया है. शुरुआत में जदयू संधान को हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित किया गया. इसके बाद शीघ्र ही मैथिली, उर्दू और भोजपुरी में इस मुखपत्र का प्रकाशन होगा. सोमवार को जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने पार्टी कार्यालय में इसका लोकार्पण किया. उन्होने कहा कि जदयू की विचारधारा को जन-जन तक पहुंचाना ही हमारा लक्ष्य है. उन्होने कहा, कि आने वाले समय में अंगिका आदि भाषाओं में भी प्रकाशन होगा.

सोमवार को जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष पार्टी कार्यालय पहुंचे थे. कार्यक्रम के बाद उन्होने कहा, कि विचार में जबतक धार होगी, तभी तक पार्टी चलती रहेगी. विचारों से संघर्ष शुरू से होता रहा है. इसलिए यह जरूरी है कि हम अपनी विचारधारा को मजबूत करते हुए जन-जन तक पहुंचाते जाए. इसी उद्देश्य से ‘जदयू संधान’ नाम से मासिक मुखपत्र प्रकाशित किया जा रहा है. उन्होने कहा, आने वाले समय में साप्ताहिक रुप से इसका प्रकाशन किया जाएगा.

RCP सिंह की JDU में उमेश कुशवाहा का जलवा, 27 जिला अध्यक्ष बदले, फुल लिस्ट

जदयू संधान मुखपत्र को हर कार्यकर्ता तक नियमित रूप से पहुंचाया जाएगा. जब कार्यकर्ता पार्टी की विचारधारा से पूरी तरह अ‌वगत रहेंगे, तो ही वह जनता को सही ठग से पार्टी की बातों को बता पाएगे. कार्यक्रम में आरसीपी सिंह ने बिहार के गौरवशाली इतिहास को याद किया. उन्होनें कहा, दुनिया में सबसे पहले लोकतंत्र बिहार के वैशाली में ही आया था. देश की आजादी के समय विकास के लेकर बिहार तीसरे नंबर पर था. उन्होने कार्यकर्ता से कहा, कि फिर से बिहार को नई उंचाईयों पर पहुंचाना है. इस मुखपत्र के पहले अंक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का संदेश अंकित है.

पटना: गणतंत्र दिवस समारोह के लिए गांधी मैदान तैयार, 9 बजे झंडा फहराएंगे राज्यपाल

बिहार:राम विलास पासवान को मरणोपरांत पद्म भूषण, मृदुला सिन्हा पद्मश्री, फुल लिस्ट

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें