जेडीयू का बीजेपी पर निशाना- CM नीतीश कुमार से सीखें गठबंधन की राजनीति

Smart News Team, Last updated: Tue, 29th Dec 2020, 8:22 PM IST
  • जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में जो हुआ वह सुखद अनुभव नहीं है. दोबारा इस तरह से कुछ नहीं हो, इसका ध्यान गठबंधन दलों को रखना चाहिये. राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि भाजपा लगातार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दरकिनार कर रही है.
जदयू के प्रदेश बोले- राजनीतिक दलों को सीएम से सीखने की जरूरत है.

पटना- अरुणाचल प्रदेश में जदयू के छह विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के बाद दोनों राजनीतिक दलों के बीच वार-पलटवार का दौर जारी है. जदयू नेता लगातार इस मसले पर अपनी नाराजगी जा कर रहे हैं. जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में जो हुआ वह सुखद अनुभव नहीं है. दोबारा इस तरह से कुछ नहीं हो, इसका ध्यान गठबंधन दलों को रखना चाहिये.

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 15 सालों तक बिहार में गठबंधन को लेकर किसी को भी शिकायत का मौका नहीं दिया. राजनीतिक दलों को इससे सीखने की जरूरत है. बताते चलें कि अरुणाचल मसले पर विपक्षी पार्टी कांग्रेस और राजद लगातार जदयू पर तंज कस रही है. राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि भाजपा लगातार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दरकिनार कर रही है. उन्होंने सीएम नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के सामने विरोध दर्ज कराने की सलाह दी.

पटना: किसान आंदोलन में लाठीचार्ज, भगदड़ मची, पुलिस ने राजभवन जाने से रोका

गौरतलब है कि जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा था कि अरुणाचल प्रदेश में जो हुआ वह गठबंधन की राजनीति के लिए अच्छे संकेत नहीं है. उन्होंने कहा कि वर्ष 1967 में डॉ लोहिया ने गठबंधन की राजनीति की शुरुआत की थी. इस गठबंधन की राजनीति तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में फली-फूली. 23 पार्टियों के गठबंधन की सरकार को उन्होंने चलाया और किसी को शिकायत का मौका नहीं दिया. अरुणाचल प्रदेश में उस अटल धर्म का भी पालन नहीं किया गया.

पटना: बिहार को नये साल की सौगात, पैसेंजर ट्रेनें 31 दिसंबर तक चलेगी, देखें लिस्ट

पटना सर्राफा बाजार में सोना 10 व चांदी 1300 रुपये चमकी, क्या है आज का मंडी भाव

पेट्रोल डीजल 29 दिसंबर का रेट: पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर, पूर्णिया में नहीं बढ़े दाम

छात्रों को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलने पर अब कर सकेंगे अधिकारी से शिकायत

बिहार के किसानों को नीतीश सरकार का बड़ा झटका, 63 कृषि उपकरणों पर सब्सिडी खत्म

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें