जीतन राम मांझी की PM मोदी से अपील, शहाबुद्दीन के निधन की हो न्यायिक जांच

Smart News Team, Last updated: 03/05/2021 03:03 PM IST
  • जीतन राम मांझी ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपील की है कि पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के निधन की न्यायिक जांच की जाए. इसी के साथ उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाए.
जीतन राम मांझी की पीएम मोदी से अपील, शहाबुद्दीन का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाए.

पटना. बिहार पूर्व मुख्यमंत्री और हम के प्रमुख जीतन राम मांझी ने सोमवार को ट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह समेत दिल्ली के मुख्यमंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री से अपील की है कि सीवान के पूर्व सांसद और राजद नेता शहाबुद्दीन की मौत की न्यायिक जांच की जाए. इसी के साथ उन्होंने आग्रह किया है कि शहाबुद्दीन का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाए.

बिहार में एक बार फिर शहाबुद्दीन की मौत के बाद राजनीति गलियारों में बातें होने लगी हैं. शहाबुद्दीन की मौत को लेकर कई तरह के सवाल हो रहे हैं. जीतन राम मांझी ने भी इसी दौरान राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार की बात को दोहराया है. हम के पार्टी प्रवक्ता दानिश ने भी कहा कि शहाबुद्दीन की मौत को लेकर कोई राज तो है जिसके सामने आना चाहिए. गौरतलब है कि बिहार के बाहुबली रह चुके शहाबुद्दीन की दो दिन पहले दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई थी. 

जीतन राम मांझी का ट्वीट.

पटना में अंतिम संस्कार पर सीसीटीवी से होगी निगरानी, तीनों घाटों पर लगेंगे कैमरे

सीवान के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन तिहाड़ जेल में सजा काट रहे थे वहां अचानक उनकी तबीयत बिगड़ने पर उन्हें इलाज के लिए अस्पताल बेजा गया था. जहां उनका निधन हो गया था. शहाबुद्दीन की मौत पर आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव समेत कई बड़े नेताओं ने शोक प्रकट किया था. वहीं इस मामले पर लगातार सवाल उठने के कारण उनके शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आज ही देने के लिए कहा गया है.

बता दें कि शहाबुद्दीन के शव को परिवार सीवान लेकर आना चाहता था जिसके लिए अनुमति नहीं मिल रही थी. लेकिन कोर्ट की सुनवाई के बाद साफ हो गया है कि शहाबुद्दीन कोविड पॉजिटिव हुए थे तो दिल्ली में ही सुपर्दे खाक होंगे और अगर वह संक्रमित नहीं थे तो सीवान के प्रतापपुर में होंगे. 

पटना में कर्फ्यू में पुलिस पर आरोप, ठेकेदार से लिए 5000 रु और रसीद दी 2000 की 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें