विधानसभा चुनाव से पहले जीतनराम मांझी NDA में, JDU कोटे से मिल सकती है 10 सीटें

Smart News Team, Last updated: 02/09/2020 08:02 PM IST
  • पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने राजधानी पटना में एनडीए में शामिल होने का ऐलान कर दिया है. गुरुवार को जीतन राम मांझी एनडीए में शामिल हो जाएंगे.
विधानसभा चुनाव से पहले जीतनराम मांझी NDA में, JDU कोटे से मिल सकती है 10 सीटें

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव से पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की हम पार्टी ने आखिरकार एनडीए का दामन थाम लिया है. राजद और कांग्रेस के महागठबंधन को छोड़ने के बाद बुधवार को जीतन राम की पार्टी ने जेडीयू-बीजेपी नीत एनडीए में शामिल होने का ऐलान किया है. गुरुवार को जीतन राम मांझी आधिकारिक तौर पर एनडीए में शामिल होंगे. सूत्रों की मानें तो जीतनराम मांझी को चुनाव में जेडीयू के कोटे से 10 विधानसभा सीटें मिल सकती हैं.

गौरतलब है कि जीतन राम मांझी ने कहा कि वे किसी शर्त पर एनडीए में शामिल हुए हैं. उनका मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पुराना संबंध है. उनकी पार्टी कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी ये जेडीयू और उनकी पार्टी का मसला. हालांकि, मांझी ने यह भी साफ किया कि उनकी पार्टी ने जेडीयू के साथ विलय नहीं गठबंधन किया है.

मुजफ्फरपुर में मामा और मौसा ने करा दिया भांजा किडनैप, जमीन के लालच में रची साजिश

एनडीए से पहले वापस महागठबंधन में शामिल होने को लेकर मांझी ने कहा कि उस समय वे लालू प्रसाद यादव के जाल में फंस गए थे इसी वजह उन्होंने महागठबंधन का हाथ थामा. मांझी ने आगे कहा कि राजद भ्रष्टाचार और घोटालों से लिप्त पार्टी है.

JDU का चुनावी नारा: विकसित बिहार नीतीश कुमार, बिहार के नाम नीतीश के काम

वहीं मांझी के महागठबंधन में फिर शामिल होने के फैसले का डिप्टी सीएम सुशील कुमार ने मोदी ने स्वागत किया. सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा कि मांझी के महागठबंधन छोड़ने से साफ होता है कि जेल से चलने वाली पार्टी दलित और पिछड़ों के साथ न्याय नहीं कर सकती है.

दूसरी ओर हम पार्टी के सूत्रों का कहना है कि पार्टी आने वाले चुनाव में 10 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है. बता दें कि साल 2015 विधानसभा चुनाव में मांझी की पार्टी 20 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ी थी जिसपर सिर्फ एक सीट पर जीत मिली थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें