कन्हैया के कांग्रेसी बनने पर CPI बोली- उनके जाने से पार्टी खत्म नहीं हो जाएगी

Smart News Team, Last updated: Tue, 28th Sep 2021, 7:39 PM IST
  • जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार कांग्रेस में शामिल हो गए. जिसपर सीपीआई महासचिव डी राजा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उनके जाने से पार्टी खत्म नहीं हो जाएगी.
फोटो में- डी राजा, कन्हैया कुमार

पटना. सीपीआई महासचिव डी राजा ने पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य कन्हैया कुमार के कांग्रेस में शामिल होने पर फौरी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि पार्टी उनके आने से पहले थी और उनके जाने से खत्म नहीं हो जाएगी. डी राजा ने कहा कि उनकी पार्टी निःस्वार्थ संघर्ष और बलिदान के लिए है लेकिन कन्हैया हमारी पार्टी को लेकर ना स्पष्टवादी रहे और ना ही ईमानदार.

राजा ने कहा कि कन्हैया ने कांग्रेस में शामिल होकर खुद ही खुद को पार्टी से निकाल लिया है. डी राजा ने कहा कि सीपीआई जातिविहीन और वर्गविहीन समाज बनाने की लड़ाई लड़ रही है. उन्होंने कहा कि कन्हैया की निजी महत्वाकांक्षा और आकांक्षा रही होगी. यह दिखाता है कि उनका वामपंथ और कामगार विचारधारा में भरोसा नहीं है.

राहुल गांधी के सामने कांग्रेस में शामिल होके कन्हैया बोले- देश बचाने की लड़ाई है

डी राजा ने कुछ दिन पहले कन्हैया को कांग्रेस में जाने की चर्चा का खंडन करने के लिए पार्टी मुख्यालय में मीडिया से बात करने कहा था लेकिन बताए गए दिन और समय पर कन्हैया ना तो पार्टी दफ्तर पहुंचे और ना ही पार्टी के नेताओं का फोन उठाया. डी राजा की मौजूदगी में ही पार्टी के हैदराबाद कांग्रेस में कन्हैया के आचरण को लेकर एक निंदा प्रस्ताव पास किया गया था. माना जाता है कि कन्हैया और सीपीआई के रिश्तों में दूरियां वहीं से बढ़ने लगी जो उन्हें भगत सिंह जयंती पर राहुल गांधी की कांग्रेस के पास ले आई.

कन्हैया ने दिल्ली में कांग्रेस ज्वाइन करने के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि उनका जन्म कम्युनिस्ट पार्टी में हुआ है और वो उनके दिल के करीब है लेकिन देश के सामने जो संकट है उस लड़ाई में सीपीआई की वैचारिक संकीर्णता और स्पीड बाधा थी. कन्हैया ने कांग्रेस और वामपंथियों के याराना की ओर इशारा करते हुए कहा कि वो जिस छात्र संगठन एआईएसएफ से जुड़े रहे उसके कांग्रेस में पंडित जवाहरलाल नेहरू भाषण करने आए थे.

Photos: कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी कांग्रेस में शामिल, राहुल गांधी ने दिलाई सदस्यता

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें