नई महामारी बनकर सामने आई किडनी की बीमारी, पिछले एक साल में हुई 2000 लोगों की मौत

Smart News Team, Last updated: Thu, 11th Mar 2021, 11:32 AM IST
  • नई महामारी बनकर सामने आ रही किडनी फेल होने वाली बीमारी. देश और राज्य की छठी सबसे बड़ी बीमारी बन चुकी है. प्रतिदिन कम से कम 100 मरीज इस बीमारी से पीड़ित होते हैं. कोरोना काल में राज्य भर में 1500 से 2000 लोगों की मौत किडनी फेल होने के कारण हुई.
नई महामारी बनकर सामने आई किडनी की बीमारी, पिछले एक साल में हुई 2000 लोगों की मौत (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना। पूरी दुनिया में किडनी फेल होने वाली बीमारी 21वीं सदी की नई महामारी बनती जा रही है. 10 साल पहले यह बीमारी 40वें स्थान पर थी लेकिन आज यह देश और राज्य की छठी सबसे बड़ी बीमारी बन चुकी है. पहले किडनी फेल होने की बीमारी 50 साल से अधिक आयु के लोगों को होती थी अब छोटे-छोटे बच्चे भी इस बीमारी का शिकार होने लगे हैं. किडनी रोग विशेषज्ञ से बातचीत में मिली जानकारी के अनुसार यूरोपीय और अमेरिकी देशों की तुलना में भारत में यह बीमारी औसत 10 साल कम उम्र के लोगो में अधिक पाई जा रही है.

पटना के विभिन्न किडनी विशेषज्ञ डॉक्टर पंकज हंस, डॉक्टर हर्षवर्धन, डॉ हेमंत कुमार और डॉक्टर संजीव कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि बिहार में भी कितनी मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. डीएमसीएच के ओपीडी में प्रतिदिन कम से कम 100 मरीज इस बीमारी से पीड़ित होते हैं जिसमें से 50 नए मरीज होते हैं. आईजीआईएमएस में भी इनकी संख्या 150 के लगभग होती है.

रांची: टीचर्स को गृह जिले में मिलेगी पोस्टिंग, बदलाव की तैयारी में सोरेन सरकार

अस्पताल के अधीक्षक डॉ मनीष मंडल ने बताया कि अस्पताल में आने वाले मरीजों की संख्या में से 50 से 60 नए मरीज होते हैं. डॉ पंकज हंस ने बताया कि 1 साल पहले यह संख्या 10 से 15% ज्यादा बढ़ी है. पटना के ही विभिन्न निजी अस्पतालों पारस, रूबन, बिग अपोलो में भी किडनी फेल होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढ़ोतरी हुई है. कोरोना काल में इलाज में हुए अभाव के कारण राज्य भर में 1500 से 2000 लोगों की मौत किडनी फेल होने के कारण हुई थी.

शुक्रवार तक निपटा लें बैंक के काम, चार दिन बंद रहेगा ब्रांच, जानें क्यों

क्या है किडनी फेल होने के कारण

विशेषज्ञ डॉक्टर ने किडनी फेल होने के कारण बताते हुए कहा कि बिहार और देशभर में किडनी की बीमारी का सबसे बड़ा कारण अनियंत्रित डायबिटीज हाई बीपी और मोटापा है. दूसरा सबसे बड़ा कारण दर्द निवारक दवाइयों और एंटीबायोटिक दवाओं का ज्यादा प्रयोग है. इसके अलावा गलत खानपान व्यायाम और शारीरिक सक्रियता में कमी फास्ट फूड धूम्रपान और शराब सेवन भी किडनी फेल होने का बड़ा कारण है. चाइनीस और फास्ट फूड का अत्यधिक सेवन भी बच्चों में किडनी फेल होने का बड़ा कारण बनता जा रहा है. दिनचर्या बदल कर इन पर काबू पाया जा सकता है.

क्या है किडनी फेल होने के लक्षण

*पेशाब में झाग आना

*पेशाब के रास्ते में बार-बार संक्रमण

*पैरों में अथवा शरीर में सूजन होना

*हमेशा उल्टी जैसा मन होना

क्या हैं बचाव के उपाय

*बीमारी की पहचान होते ही जितनी जल्दी हो इलाज शुरू कराएं

*दर्द निवारक दवाइयों का प्रयोग कम से कम करें

*अपना बीपी और शुगर को बैलेंस रखें

*अगर किडनी फेल होने का पारिवारिक इतिहास है तो समय-समय पर जांच कराएं

* चाइनीस खाने और फास्ट फूड का सेवन कम कर दें

* हेल्थी डाइट के साथ साथ अधिक से अधिक पानी पिएं

* अपने मोटापे और वजन पर नियंत्रण रखें

* रोजाना 1 घंटा एक्सरसाइज करें और एक्टिव र

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें