पटना: किसान आंदोलन में लाठीचार्ज, भगदड़ मची, पुलिस ने राजभवन जाने से रोका

Smart News Team, Last updated: Tue, 29th Dec 2020, 3:10 PM IST
  • पटना में नए कृषि कानून के खिलाफ किसान सड़कों पर उतरे जिसमें कई संगठनों ने भी हिस्सा लिया. पुलिस ने किसानों को राजभवन जाने से रोका जिसके बाद आंदोलनकारियों से उनकी धक्का-मुक्की हो गई. पुलिस ने आंदोलनकारियों की भीड़ पर लाठीचार्ज किया.
पटना में किसान आंदोलन में पुलिस ने लाठीचार्ज किया.

पटना. बिहार की राजधानी पटना में नए कृषि कानून को लेकर किसान संगठनों ने राजभवन से मार्च निकाला. मार्च में विभिन्न संगठनों से जुड़े आंदोलनकारी भी इकठ्ठे हो गए. पुलिस ने आंदोलनकारियों के मार्च को रोकने के लिए लाठीचार्ज का सहारा लिया.

किसानों के साथ आंदोलनकारियों का मार्च राजभवन से लेकर डाक बंगला चौराहे पर पहुंचा ही था कि पुलिस ने आंदोलनकारियों को आगे बढ़ने से रोक दिया. किसान राजभवन जाना चाहते थे लेकिन पुलिस ने किसी को आगे बढ़ने की परमिशन नहीं दी.  

पुलिस के रोकने पर डाकबंगला चौराहे पर रोका तो आंदोलनकारियों के साथ पुलिस की धक्का मुक्की हो गई. भीड़ को संभालना मुश्किल हो गया तो पुलिस ने लाठीचार्ज शुरू कर दिया. जिसके बाद इलाके में भगदड़ मच गई. भगदड़ में कई किसानों को चोट आई जिसके बाद उन्हें पीएमसीएच भेज दिया गया.

पटना में किसान आंदोलनकारियों की भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया.
किसान आंदोलनकारियों का राजभवन मार्च.
पटना पुलिस ने किसान आंदोलनकारियों को रास्ते में रोका.
किसानों ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने के लिए मार्च निकाला.

मिली जानकारी के अनुसार पटना में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति और लेफ्ट पार्टियों की तरफ से राजभवन तक मार्च निकाला जा रहा था. कृषि कानूनों के विरोध में राज्य के अलग-अलग कोनों से किसान पटना पहुंचे थे. 

पटना: बिहार को नये साल की सौगात, पैसेंजर ट्रेनें 31 दिसंबर तक चलेगी, देखें लिस्ट

डाक बंगला चौराहे पर जब किसानों को रोका गया तो पुलिस के साथ उनकी धक्का मुक्की हुई और अनियंत्रित भीड़ को काबू पाने के लिए पुलिस ने बल का प्रयोग किया. जिसमें कई किसानों को चोट भी आई है. 

हाईवे पर टोल टैक्स देने के लिए NHAI की फास्टैग ऐप का करें इस्तेमाल, जानें नया फीचर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें